GORAKHPUR: लोकसभा चुनावी समर के लिए जहां सभी पार्टियां अभी से ही जोर आजमाइश में जुट गई हैं. वहीं, वोटर्स खासकर युवा भी अपनी पसंद की सरकार चुनने को तैयार हैं. दैनिक जागरण आई नेक्स्ट और रेडियो सिटी की ओर से खास मिलेनियल्स के लिए ऑर्गनाइज्ड राजनी-टी में विकास, बेरोजगारी, आतंकवाद और पर्यावरण का मुद्दा छाया रहा. सिविल लाइंस में हुई चर्चा में रेडियो सिटी की ओर से कार्यक्रम का संचालन कर रहे आरजे सारांश की मौजूदगी में लोकसभा चुनाव से जुड़े मुद्दों पर खूब चर्चा हुई. युवा वोटर्स ने कहा कि सरकार हर क्षेत्र में बेहतर कार्य कर रही है लेकिन अभी भी शिक्षा के क्षेत्र में बदलाव, विकास और बेरोजगारी पर काम करने की जरूरत है, जिससे देश तरक्की कर सके. देश की जनसंख्या दिनोदिन बढ़ रही है. जिस तरह से चीन ने जनसंख्या पर कंट्रोल किया है, भारत सरकार को भी इसके लिए अलग से पॉलिसी बनानी होगी. साथ ही युवाओं ने ये भी कहा कि जो सरकार आए वह भारत में बढ़ रहे आतंकवाद को जड़ से खत्म करे.

हर क्षेत्र में कार्य कर रही सरकार

राजनी-टी में आरजे सारांश ने सबसे पहले युवाओं को मिलेनियल्स का मतलब समझाया. इसके बाद युवाओं ने अपने मुद्दों को सामने रखा. मंजीत श्रीवास्तव ने कहा कि सरकार के पास अभी भी समय है, वह नौकरियां निकाले जिससे बेरोजगारी खत्म हो सके. जो चुनाव होने वाला है वह युवाओं के लिए हो. युवा आगे रहें इसके लिए रोजगार के रास्ते खोलने चाहिए. सरकार ने नीति में मिडिल और अपर क्लास दोनों का ख्याल रखा है. रियल स्टेट की दिशा में भी सरकार काम कर रही है. जीएसटी कम करने से लोगों को बहुत राहत मिली है. वहीं ट्रांसपोटर्ेंशन पर भी अच्छा काम हुआ है. हालांकि बेरोजगारी बढ़ी है. सरकार को चाहिए कि बेरोजगारी कम करें, शिक्षा क्षेत्र में तकनीकी और प्रोफेशनलिज्म की दिशा में काम करने की जरूरत है. इस बार इम्प्लॉइमेंट जनरेशन अहम मुद्दा है.

आलोचना बंद कर एकजुट हो पार्टियां

ऊषा पांडेय ने कहा कि महिलाएं सभी क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं, वह चाहे शिक्षा हो या नौकरियां, सरकार महिलाओं का ख्याल रख रही है. इस समय देश आतंकवाद से परेशान है. सीमा पर तनाव है. सेना के जवान दुश्मनों को कड़ी टक्कर दे रहे हैं. इसलिए अन्य पार्टियों को एकजुट होकर बोलना चाहिए. आलोचना करना बंद करें, जहां आलोचना करनी चाहिए वहीं आलोचना करें. देश हित में देश की सुरक्षा पर सभी को एकजुट होना चाहिए. वायु सेना के जांबाज आतंकवाद को जड़ से समाप्त करने में समक्ष हैं. बढ़ते आतंकवाद के खात्मे के लिए अच्छा कदम उठाया गया है. अविनाश श्रीवास्तव ने कहा कि बॉर्डर पर युद्ध जैसे हालत हैं जिसके लिए हमारी सेना तैयार है. आतंकवाद और स्लीपर सेल को खत्म किया जाए. इसके अलावा बेरोजगारी भी अहम मुद्दा है. स्किल डेवलपमेंट और तकनीकी क्षेत्र में काम करने की जरूरत है.

पेड़ों की कटान पर लगे रोग

चर्चा में चंद्रेश ने कहा कि देश में मुख्य जंगल कट रहे हैं. इससे पर्यावरण के लिए खतरा है. इस पर रोक लगाने की जरूरत हैं और सरकार को चाहिए कि इसके लिए अलग से रूल बनाए जाएं जिससे हरे पेड़-पौधों की कटान पर लगाम लग सके. सरकार को पर्यावरण के क्षेत्र में अहम कदम उठाना चाहिए. ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाए जाएं जिससे पर्यावरण समाप्त होने से बचाया जा सके.

सतमोला खाओ, कुछ भी पचाओ

सरकार को विकास के क्षेत्र में काम करना चाहिए. यहां के वैज्ञानिक व यूथ विदेश की तरफ रुख कर रहे हैं. ऐसे में अपने देश में ही शोध व आविष्कार के रास्ते खोले जाएं जिससे यूथ विदेश न जाएं. उन्हें देश में ही अच्छे-अच्छे रोजगार मिलें जिससे देश का विकास हो. सुरक्षा का मुद्दा भी जरूरी है. हम सुरक्षित रहेंगे तभी हमारा विकास होगा. सुरक्षा ही कुंजी से ही देश चलता है. इसलिए सरकार को इस बात का ध्यान रखा चाहिए कि पहले वह देश को सुरक्षित करने के उपाय सोचें.

मेरी बात

सरकार बहुत कुछ कर रही है. उन्हें अभी भी रोजगार के क्षेत्र में आगे आकर काम करना चाहिए. आतंकवाद को लेकर देश के लोगों में काफी गुस्सा है. इसे जड़ से समाप्त करना चाहिए. साथ ही यूथ के लिए नौकरियों के दरवाजे खोलने चाहिए. शिक्षा के क्षेत्र में तकनीकी व प्रोफेशनलिज्म की दिशा पर काम किया जाए जिससे देश से बेरोजगारी खत्म हो और युवा वर्ग को रोजगार मिले.

मंजीत श्रीवास्तव

कड़क मुद्दा

राजनी-टी में विकास, बेरोजगारी, आतंकवाद, जनसंख्या नियंत्रण और पर्यावरण का मुद्दा छाया रहा. युवाओं ने एक सुर में कहा कि बेरोजगार यूथ अपने पैरों पर खड़ा हो सके. इसके लिए रोजगार के रास्ते सरकार को खोलने चाहिए. बेरोजगारों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है. आने वाली सरकार से युवाओं ने उम्मीद जताई कि वह समय रहते वैकेंसियों का तत्काल निकालें जिससे यूथ को रोजगार मिले. युवाओं ने ये भी कहा कि हमारे पास बड़ी आर्मी है जो आतंकवाद के खात्मे के लिए पूरी तरह सक्षम है.

कोट्स

सरकार ने शौचालय व स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया है. शिक्षा के क्षेत्र में सरकारी खर्च बढ़ाया जाना चाहिए. यूथ पढ़ाई करता है तो उन्हें नौकरियां तो मिलनी चाहिए. रोजगार का रास्ता खोलना चाहिए.

- सुनील कुमार चौधरी

इस समय बॉर्डर पर तनाव है. पूरा देश सेना के साथ खड़ा है. सेना को सलाम करता हूं. जहां तक बेरोजगारी की बात है तो सरकार को इस ओर भी ध्यान देना चाहिए.

- अनुभव कुमार

सरकार को चाहिए कि वह विकास के क्षेत्र में काम करें जिससे यूथ को रोजगार मिले. उन्हें शिक्षा में तकनीकी और प्रोफेशनल की दिशा में काम करना चाहिए.

- भारत भूषण भाष्कार

बेरोजगारी की समस्या अब तक जस की जस है. कुछ जगहों पर नौकरियां मिल रही हैं तो कई जगहों पर कोर्ट की वजह से लटकी हुई हैं. सरकार को इन्हें जल्दी कंप्लीट करना चाहिए. साथ ही यह भी सोचे कि लोगों को कैसे रोजगार दिया जाए.

- संजीत श्रीवास्तव

पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हुए हमले का हिसाब सेना ले रही है. अन्य देश भी आतंकवाद के खिलाफ भारत के साथ हैं. सेना की कार्रवाई की देश के लोग सराहना कर रहे हैं. लोगों को अपनी सेना की इस कार्रवाई पर गर्व है.

- अनुराग श्रीवास्तव

स्वच्छता के क्षेत्र में सरकार जो कर रही है वह बेहतर है. शहर व गांव में बने शौचालय इस बात की गवाही दे रहें हैं. इस समय आतंकवाद सबसे ज्वलंत मुद्दा हैं. सेना उनके खिलाफ कार्रवाई कर रही है.

- अभिषेक जालान

बॉर्डर पर तनाव है जिसका भारत की सेना मुंहतोड़ जवाब दे रही है. स्लीपर सेल को जड़ से खत्म करना चाहिए. इसके अलावा देश में छिपे गद्दारों पर भी कार्रवाई होनी चाहिए.

- अविनाश श्रीवास्तव

सरकार जो रोजगार के लिए काम कर रही है वह ठीक है लेकिन अभी भी वैकेंसी की रफ्तार सुस्त हैं. जिसकी वजह से यूथ रोजगार के लिए भटक रहे हैं. इसकी वजह से ज्यादातर लोग विदेश की ओर रुख कर रहे है. जिसे रोका जाए और विकास का रास्ता खोला जाना चाहिए.

- मनीष श्रीवास्तव

आतंकवाद के खात्मे के लिए सरकार जो कदम उठा रही है वह बेहतर है. आतंकवाद को समाप्त किया जाना चाहिए. जहां तक आलोचना की बात है तो अन्य पार्टियों को आलोचना बंद कर सुरक्षा की बात पर एकजुट होना चाहिए.

- ऊषा पांडेय

आज राजनीटी

नौका विहार

दोपहर 12 बजे