-मिड डे मील के 100 करोड़ रुपए बिल्डर के खाते में ट्रांसफर का मामला

-चार सितंबर को ही हुआ डीजीएम का ट्रांसफर, फर्जी ट्रांसफर के कारण मिला स्टे

RANCHI(28 Sep): मिड डे मील के क्00 करोड़ रुपए बिल्डर के अकाउंट में ट्रांसफर मामले में एसबीआइ की स्पेशल जांच टीम ने गुरुवार को एक साथ एसबीआइ हटिया के चार स्टाफ्स के घरों पर दबिश दी. सभी से घर पर ही पूछताछ की गई. इस दौरान टीम ने उनके बैंक खातों को भी बारीकी से खंगाला. इन बैंककर्मियों के घर के साथ-साथ उनकी आर्थिक स्थिति की भी जांच की गई. टीम अगले तीन दिनों तक जांच करेगी. उसके बाद तय किया जाएगा कि किन-किन दोषी कर्मचारियों पर कार्रवाई करनी है. इसके अलावा भानु कंस्ट्रक्शन के मालिक संजय तिवारी के साथ उसके पार्टनर सुरेश कुमार के खातों को भी खंगाला गया. एसबीआइ के अलावा एक्सिस बैंक, आइसीआइसीआइ बैंक और एचडीएफसी बैंक के खातों की भी जानकारी ली गई है. बैंक के हर ट्रांजेक्शन पर नजर रखी जा रही है. वहीं, संजय व सुरेश दोनों से जुडे़ हुए अन्य खातों को भी खंगाला जाएगा.

पैसे वापस लाने की जिम्मेवारी डीजीएम को

फर्जी ट्रांसफर किये गये इन क्00 करोड़ रुपयों को वापस लाने की पूरी जिम्मेदारी एसबीआइ के डीजीएम डीके पंडा को दी गई है. उनका ट्रांसफर चार सितंबर को ही ओडि़शा के भुवनेश्वर कर दिया गया था, उनके स्थान पर पांच सितंबर को ही देवेश कुमार को डीजीएम पद पर नियुक्ति कर दिया गया था. लेकिन चार्ज हैंडओवर करने में लंबा समय मिलने के कारण वे अभी पद पर बने हुए थे. इसी बीच ख्0 सितंबर को मिड डे मील के सौ करोड़ रुपए के फर्जी ट्रांसफर का मामला सामने आ गया. जिसके बाद जांच कमेटी बनी और जांच कमेटी का अध्यक्ष डीके पंडा को बनाया गया. इसे लेकर एसबीआइ की ओर से फिलहाल उन्हें स्टे दिया गया है. जांच की प्रक्रिया जबतक पूरी नहीं होती है, तबतक डीके पंडा रांची में ही रहेंगे.

नव दुर्गा के खाते में 9.ब् करोड़ मौजूद

इधर, एसबीआइ की जांच टीम जिसमें रांची के दो कर्मचारी भी शामिल हैं, गुरुवार को ओडि़शा रवाना हुई. ओडिशा की कंपनी नव दुर्गा प्राइवेट लिमिटेड के खाते पर कार्रवाई शुक्रवार को की जाएगी. नव दुर्गा प्राइवेट लिमिटेड के केनरा बैंक के अकाउंट में कुल 9.ब् करोड़ रुपए मौजूद हैं. यह राशि सोमवार तक एसबीआई रांची को मिल जाएगी. वहीं भानु कंस्ट्रक्शन के मालिक संजय तिवारी की नई कार भी जब्त करने का निर्णय लिया गया है.

संजय-सुरेश की जब्त होंगी कारें

भानु कंस्ट्रक्शन के मालिक संजय तिवारी और उसके पार्टनर सुरेश कुमार की गाडि़यों को भी बैंक जब्त करेगा. बैंक के अनुसार, इन पैसों के जरिए संजय तिवारी और सुरेश कुमार ने रांची और कोलकाता से चमचमाती हुई मंहगी कारें खरीदी हैं. जिसकी जानकारी बैंक को मिल चुकी है. बैंक कार के रेजिस्ट्रेशन नंबर के जरिए उसपर कानूनी कार्रवाई शुरू करेगा. एसबीआइ के अनुसार, बैंक के पास क्00 करोड़ रुपए में से 70 करोड़ रुपए तो आ गए हैं. साथ ही क्ख् करोड़ रुपए लाने का कार्य शुरू कर दिया गया है. बचे हुए क्8 करोड़ रुपयों को वापस लाने के लिए कंपनी की संपत्ति सील की जाएगी.

----बॉक्स......

एक को आ रही कोलकाता सीबीआइ की टीम

सीबीआई कोलकाता की टीम एक अक्टूबर को रांची आ रही है. सीबीआइ कोलकाता की टीम ने इस बारे में जानकारी एसबीआइ कीे गुरुवार को दी है.

------

क्या है मामला

मिड डे मील के क्00 करोड़ रुपए को स्टेट बैंक आफ इंडिया की धुर्वा शाखा से भानु कंस्ट्रक्शन कंपनी के अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया गया था. करीब ब्0 दिनों तक यह राशि भानु कंस्ट्क्शन कंपनी के अकाउंट में रही. ब्ख् लाख रुपए ब्याज भी उस राशि पर बना है. इसमें बैंक कर्मचारियों की मिलीभगत का मामला भी सामने आया है. मामले का खुलासा होने के बाद बैंक ने तत्काल ब्7.80 करोड़ रुपए की वापसी भानु कंस्ट्रक्शन कंपनी के अकाउंट से कर ली थी. बाकी पैसे धीरे-धीरे वापस हुए.

------

कोट

मामले की जांच अभी चल रही है. सीबीआइ की टीम एक अक्टूबर को आ सकती है. मुझे इस मामले के कारण ही स्टे दिया गया है. मेरे ट्रांसफर की प्रक्रिया पिछले महीने ही शुरू हो गई थी. पांच सितंबर को मेरे स्थान पर देवेश कुमार ज्वाइन कर चुके थें. अब पूरी राशि की रिकवरी होने के बाद ही मैं रांची से कहीं बाहर जाऊंगा.

-डीके पंडा, डीजीएम, एसबीआइ, रांची जोन