371 पहुंची कोरोना पॉजिटिव की संख्या

आगरा। कोरोनावायरस के पेशेंट्स की संख्या आगरा में लगातार बढ़ती जा रही है, पॉजिटिव केसेज मिलने का सिलसिला थम नहीं रहा है। शनिवार को भी 23 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। अब आगरा में कोरोना पॉजिटिव की संख्या 371 हो गई है। इसके अलावा लॉकडाउन नॉन कोरोना पेशेंट्स के लिए एक बड़ी मुसीबत बना हुआ है। पिछले कुछ दिनों में देखा गया है कि नॉन कोरोना पेशेंट्स को इलाज कराने के लिए काफी परेशानी हुई है। शासन की ओर से आगरा के नोडल अधिकारी बनाए गए आलोक कुमार ने इसके लिए जिला प्रशासन और आईएमए के साथ मी¨टग की। इसमे नॉन कोरोना पेशेंट्स इलाज से वंचित न रहें इसके लिए गाइडलाइन जारी हुई। इसमें कहा गया कि सभी इमरजेंसी पेशेंट्स 24 घंटे एडमिट करने की सुविधा जारी रखी जाए। इसके साथ ही मुख्यमंत्री के आदेश के बाद हॉस्पिटल से फैल रहे कोरोना इंफेक्शन को रोकने के लिए इंफेक्शन प्रिवेंशन प्रोटोकॉल बनाया गया है।

ये आए नये केस

शनिवार को आई रिपोर्ट में 45 वर्षीय नगला बढ़ई सैंयद निवासी नर्स की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। ओम नगर, नगला बूढ़ी निवासी 20 वर्षीय युवक और उसके 26 वर्षीय भाई में कोरोनावायरस का संक्रमण मिला है। शास्त्रीपुरम निवासी 53 वर्षीय युवक, धूलियागंज निवासी 30 वर्षीय निवासी, शाहगंज निवासी 35 वर्षीय युवक, पृथ्वीनाथ फाटक निवासी 19 वर्षीय युवक, मंटोला निवासी 40 वर्षीय युवक में कोरोना के संक्रमण की पुष्टि हुई है। इनके अलावा माईथान निवासी 40 वर्षीय युवक, सिकंदरा मंडी निवासी 40 वर्षीय युवक में कोरोनावायरस का संक्रमण मिला है। ताजगंज के खादी भंडार निवासी 40 वर्षीय महिला, खाती पाड़ा लोहामंडी निवासी 40 वर्षीय युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। अलबतिया थाना शाहगंज निवासी 40 वर्षीय युवक, संतोष नगर नरायच, रामबाग निवासी 40 वर्षीय युवक, लोहिया नगर बल्केश्वर निवासी 40 वर्षीय युवक, ककुआ निवासी 40 वर्षीय युवक, काजीपाड़ा निवासी 40 वर्षीय युवक, नामनेर निवासी 40 वर्षीय युवक और मुस्तफा क्वॉर्टर, जनता कॉलोनी निवासी में भी कोरोनावायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई है।

इंफेक्शन प्रिवेंशन प्रोटोकॉल से रुकेगा संक्रमण

आगरा के अस्पतालों में 24 घंटे इमरजेंसी पेशेंट्स को एडमिट किया जाएगा। मरीजों को एडमिट करते टाइम उसे कोविड सस्पेक्ट ही समझा जाएगा। ऐसा इसलिए किया गया है कि कोविड का इंफेक्शन दूसरों तक न फैले। आगरा में अब तक हॉस्पिटल्स में आए पेशेंट्स से अन्य लोगों में कोविड का संक्रमण फैला है। इसकी रोकथाम के लिए जिला प्रशासन ने प्रिवेंशन प्रोटोकॉल बनाया है।

ये है प्रिवेंशन प्रोटोकॉल

-हॉस्पिटल में जिस स्थान पर मरीजों को रखा जाएगा उसे दो भागों में बांटना होगा।

-एक एरिया को रेड जोन माना जाएगा, इसमें ऐसे पेशेंट्स को रखा जाएगा, जिनमें सांस लेने में तकलीफ निमोनिया या सीवियर एक्यूट रैस्पिरेटरी इंफेक्शन के लक्षण होंगे।

-दूसरे एरिया को ग्रीन जोन माना जाएगा, इसमें कम रिस्क वाले पेशेंट्स को रखा जाएगा।

-इन पेशेंट्स की देखभाल में लगे स्टाफ को रोटेट नहीं किया जाएगा और उन्हें 14दिन के लिए क्वॉरंटीन किया जाएगा।

-पेशेंट्स का कोविड टेस्ट कराया जाएगा। यदि रिपोर्ट निगेटिव आती है तो उसे जनरल वार्ड में शिफ्ट कर दिया जाएगा और यदि रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो उसे कोविड हॉस्पिटल भेज दिया जाएगा।

इंफेक्शन पर लगेगी लगाम

आगरा में हॉस्पिटल्स से अब तक काफी बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। आगरा में अब तक अलग-अलग हॉस्पिटल्स से लगभग 110 कोरोनापॉजिटिव मिले हैं। इसकी रोकथाम के लिए मुख्यमंत्री सरकारी और प्राइवेट हॉस्पिटल्स में इंफेक्शन प्रिवेंशन प्रोटोकॉल लागू किया जाए। इसके लिए एक एडिशनल सीएमओ की देखरेख में एक टीम का गठन किया जाएगा।

होगा टीम का गठन

एडीशनल सीएमओ की लीडरशिप में गठित हुई इस टीम में आईएमए रिप्रिजेंटेटिव्स, डब्लूएचओ और यूनिसेफ के फील्ड वर्कर्स व डॉक्टर्स को जोड़ा जाएगा। इस टीम में पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के अधिकारी भी शामिल रहेंगे।

मुख्यमंत्री के आदेश के बाद हॉस्पिटल से फैल रहे कोरोना इंफेक्शन को रोकने के लिए इंफेक्शन प्रिवेंशन प्रोटोकॉल बनाया गया है। इसके लिए एक एडिशनल सीएमओ की लीडरशिप में टीम का गठन किया जाएगा।

-अमित मोहन प्रसाद, प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण

इन हॉस्पिटल्स का हुआ चयन

हीमो-डायलिसिस के लिए इन हॉस्पिटल्स को किया है चिन्हित

रेनबो हॉस्पिटल

सिनर्जी हॉस्पिटल

नयति हॉस्पिटल

हैरिटेज हॉस्पिटल

लोटस हॉस्पिटल

पुष्पांजलि हॉस्पिटल-

रामरघु हॉस्पिटल

समर्पण बल्ड बैंक

श्रीराम हॉस्पिटल

जय देवी हॉस्पिटल

डॉ। एमएल पटनी हॉस्पिटल

शांति मांगलिक हॉस्पिटल

आनंद मंगल हॉस्पिटल

जीजी र्निसंग होम

कीमो थैरेपी यहां कराएं

- एसएन मेडिकल कॉलेज

- पुरूषोत्तम दास कैंसर हॉस्पिटल

क्रिटिकल केयर के लिए यहां जाएं

- पुष्पांजलि हॉस्पिटल

- लोटस हॉस्पिटल

- रेनबो हॉस्पिटल

- शांति मांगलिक हॉस्पिटल

- कृष्णा हॉस्पिटल

- आनंद मंगल हॉस्पिटल

- जीजी र्निसंग होम

- उपाध्याय मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल

- डॉ। डीवी शर्मा बोन हॉस्पिटल

------------------------------------

दो को किया डिस्चार्ज

एसएन मेडिकल कॉलेज के आइसोलेशन वार्ड से शनिवार को प्राइवेट हॉस्पिटल के डॉक्टर सहित दो अन्य लोगों को डिस्चार्ज किया गया। इनमें कोरोना का संक्रमण पूरी तरह से खत्म हो गया है।

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner