मेरठ. बच्ची से दुष्कर्म के मामले में आरोपी अल्पसंख्यक समुदाय से होने के कारण भीड़ के गुस्से ने अचानक सांप्रदायिक उबाल ले लिया था. मामला सोशल मीडिया में भी तेजी से फैला, जिसके बाद बड़ी संख्या में भाजपा नेता और हिंदू संगठन पीडि़त परिवार के समर्थन में उतर आए. पुलिस ने किसी तरह से माहौल बिगड़ते-बिगड़ते बचाया.

बढ़ा दी गश्त

इसके बाद पुलिस ने शहर के अति संवेदनशील क्षेत्रों में गश्त बढ़ा दी. कई क्षेत्रों में सीआरपीएफ के साथ हापुड़ अड्डा, लिसाड़ी गेट, भूमिया का पुल, सर्राफा बाजार, वैली बाजार, घंटाघर जली कोठी, बच्चा पार्क आदि स्थानों पर मार्च निकाला गया.

ताबड़तोड़ दबिश

एसपी सिटी मान सिंह ने आठ टीमें बनाकर आरोपी की तलाश में कई स्थानों पर ताबड़तोड़ दबिश डाली. आरोपी के परिजनों को भी हिरासत में ले लिया गया.

बच्ची के साथ सामुहिक दुष्कर्म के मामले को देखते हुए कई अतिसंवेदनशील क्षेत्रों में पुलिस गश्त बढ़ा दी गई.

मान सिंह चौहान, एसपी सिटी

--------------------------------------------------------------------------

8वीं तक के स्कूल में 12वीं के छात्र

फूलबाग कॉलोनी की गली नंबर आठ में स्थित डैफोडिल पब्लिक स्कूल परमानेंट रिकोग्नाइज्ड है. इसी आधार पर स्कूल ने शहर में अपनी छह शाखाएं खोली हैं. स्कूल को जिला बेसिक शिक्षा विभाग से केवल 8वीं तक की मान्यता मिली हुई हैं. जबकि आगे की कक्षाओं के लिए स्कूल अपने यहां फार्म भरवाकर दूसरे सेंटर पर एग्जाम दिलवाता है. आसपास के लोगों के मुताबिक, यहां पर कक्षा 12 वीं तक के बच्चों को पढ़ाया जा रहा था. जिस वक्त यह घटना हुई उस वक्त स्कूल में करीब 500 बच्चे थे.

स्कूल सील

पुलिस ने स्कूल प्रबंधक व प्रधानाचार्य मंजू शर्मा को हिरासत में ले लिया है. साथ ही, स्कूल को सील कर दिया है. पुलिस का कहना है कि अब यह स्कूल कोर्ट के आदेश के बाद ही खुलेगा.

------------

मामला संज्ञान में आ गया है. स्कूल की जांच करवाकर सख्त एक्शन लिया जाएगा.

राजू राणा, जिला विद्यालय निरीक्षक

-------------

स्कूल को आठवीं तक की मान्यता बीएसए से दी गई थी. इससे आगे स्कूल में कक्षाएं कैसे चलाई जा रही है इसकी विभागीय जांच की जाएगी.

सतेंद्र ढाका, जिला बेसिक अधिकारी

-----------------