नीलामी करने वाली कंपनी सॉदबी का अनुमान था कि एपल के तीन टाइप किए हुए पार्टनरशीप समझौते एक से डेढ़ लाख डॉलर के बीच बिकेंगे.

इन कागज़ात पर एपल के तीन संस्थापकों - स्टीव जॉब्स, स्टीव वॉज़निएक और रोनाल्ड वेएन के हस्ताक्षर हैं. ये समझौता एक अप्रैल 1976 को हुआ था. कंपनी के गठन के 11 दिन बाद रोनाल्ड वेएन इससे अलग हो गए थे. इसके समाझौते में फेरबदल किया गया था. उस फेरबदल वाला काग़ज़ भी नीलाम हुआ है.

इन दस्तावेज़ों को सिसनेरोज़ कॉरपोरेशन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एडुआर्डो सिसनेरोज़ ने ख़रीदा था.उनकी कंपनी दूरसंचार से लेकर टीवी प्रॉडक्शन जैसे व्यवसायों से जुड़ी है.

तीसरा आदमी

नीलामी करने वाली कंपनी सोदबी ने कहा है कि इन काग़ज़ों पर पांच अन्य लोगों ने भी बोली लगाई. इन काग़ज़ों को पेनकॉम सिस्टम्स के संस्थापक वेड सादी ने बेचा है. उन्होंने ये काग़ज़ साल 1994 में रोनाल्ड वेएन ने कई हज़ार डॉलर में ख़रीदे थे.

इन काग़ज़ों से पता चलता है कि जब एपल के गठन के 11 दिन बाद रोनाल्ड वेएन ने कंपनी छोड़ी तो उन्हें उनके 10 प्रतिशत हिस्से के बदले 800 डॉलर दिए गए. उसके बाद उन्हें 1500 डॉलर और दिए गए.

रोनाल्ड वेएन ने एपल के गठन में अहम भूमिका निभाई थी. उन्होंने स्टीव वॉज़निएक को अपनी नौकरी छोड़कर एपल से जुड़ने के लिए तैयार करने में स्टीव जॉब्स की सहायता की थी.

उन्हें 10 प्रतिशत हिस्सेदारी इसलिए दी गई ताकि जॉब्स और वोज़निएक के बीच मतभेद होने की स्थिति में वो अपना मत व्यक्त कर मसलों को सुलझा सकें.

International News inextlive from World News Desk