बहुमत साबित करें मांझी
बिहार में चल रहे सियासी संकट में राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी द्वारा मांझी को बहुमत साबित करने का अवसर देकर एक नया मोड़ आ गया है. केसरीनाथ त्रिपाठी ने बिहार मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी से कहा है कि वह आगामी 20 फरवरी को सदन में वोट ऑफ कॉंफीडेंस यानी विश्वासमत हासिल करें. राजभवन सूत्रों के अनुसार इस प्रक्रिया में मांझी को 20 फरवरी को विधानमंडल में बजट सत्र के पहले दिन राज्यपाल के अभिभाषण के बाद बहुमत साबित करना होगा.

कैसे हासिल होगा विश्वासमत

राजभवन सूत्रों के अनुसार अब तक यह तय नहीं हुआ है कि बिहार सीएम मांझी किस प्रक्रिया के तहत सदन में विश्वासमत हासिल करेंगे. उल्लेखनीय है कि विश्वासमत हासिल करने की प्रक्रिया में दो तरीकों को अपनाया जाता है. इनमें से पहले तरीके 'लॉबी डिविजन' में विधानसभा में मौजूद सदस्य अलग-अलग समूहों में बंट जाते हैं. इसमें यह साफ-साफ पता चलता है किस विधायक ने किस पार्टी के पक्ष में वोट दिया है. इसके साथ ही सीक्रेट वोटिंग यानी गुप्त मतदान प्रक्रिया में विधायक गुप्त रूप से किसी एक पार्टी के पक्ष में वोट करते हैं और उन्होंने किसे वोट किया है यह पता नहीं चल पाता है.

Hindi News from India News Desk

National News inextlive from India News Desk