क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ:बायोमीट्रिक हाजिरी नहीं बनाने वाले पारा शिक्षकों को वेतन नहीं मिलेगा. इस बाबत राज्य परियोजना निदेशक उमाशंकर सिंह ने सभी जिले के शिक्षा अधीक्षकों को निर्देश दिया है. उन्होंने अपने आदेश में कहा है कि जो पारा शिक्षक बायोमीट्रिक पर अपनी उपस्थिति नहीं बना रहे हैं, उन्हें अनुपस्थित मानकर वेतन नहीं दिया जाए. परियोजना निदेशक ने कहा कि सभी स्कूलों में शिक्षकों को बायोमीट्रिक पर उपस्थिति दर्ज करने का निर्देश दिया गया है, बावजूद इसके कुछ जिले के पारा शिक्षक बायोमीट्रिक पर उपस्थिति दर्ज नहीं कर रहे हैं. कहा कि ऐसा कर पारा शिक्षक विभाग के निर्देशों की अवहेलना कर रहे हैं.

क्यों नहीं बना रहे बायोमीट्रिक अटेंडेंस

एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष के संयोजक द्वारा 04 फरवरी को पत्र लिखकर यह सूचना दी गई थी कि जबतक पारा शिक्षकों का वेतनमान स्थायीकरण संबंधी नियमावली नहीं बनती, तबतक राज्य के पारा शिक्षक बायोमीट्रिक उपस्थिति दर्ज नहीं करेंगे पर वे स्कूल में उपस्थित रहकर पठन-पाठन के कार्य के दायित्व का निर्वहन करेंगे. इसी मांग को लेकर राज्य के कुछ पारा शिक्षक अपनी उपस्थिति बायोमीट्रिक पर दर्ज नहीं करा रहे हैं.

सीधी कार्रवाई का आदेश

जो पारा शिक्षक हाजिरी नहीं बना रहे हैं ऐसे पारा शिक्षकों पर कार्रवाई करते हुए शिक्षा विभाग ने जिला के सभी शिक्षा अधीक्षकों को यह निर्देश दिया है कि उन्हें अनुपस्थित मानकर उनका मानदेय रोक दिया जाए.

संघ की मांग, नियमित शिक्षकों के लिए हटे नियम

इधर, शिक्षक संघ ने कुछ दिनों पूर्व अधिकारियों को दिए अपने ज्ञापन में साफ लिखा है कि नियमित शिक्षकों के लिए बायोमीट्रिक हाजिरी को जरूरी नहीं किया जाए. इसपर शिक्षा सचिव ने आश्वासन भी दिया था कि ऐसा ही होगा. अब पारा शिक्षकों के लिए जारी यह आदेश एक बार फिर सुर्खियों में है.

वर्जन

कई पारा शिक्षकों के संबंध में शिकायतें मिल रही हैं कि वह लोग बायोमीट्रिक हाजिरी नहीं बना रहे हैं. इसलिए सभी डीएसई को साफ लिखा गया है कि बायोमीट्रिक हाजिरी नहीं बनाने वालों का वेतन काट लिया जाए.

उमा शंकर सिंह, राज्य परियोजना निदेशक,