इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकांउट्स ऑफ इंडिया ने सीए फाइनल का रिजल्ट डिक्लेयर

देहरादून,

ट्यूजडे को इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकांउट्स ऑफ इंडिया ने सीए फाइनल का रिजल्ट डिक्लेयर कर दिया है. फाइनल एग्जाम में दून के कई स्टूडेंट्स ने सफलता हासिल की है. जो अब सीए बन गए हैं.

प्राची का स्कोर 430

जोगीवाला की रहने वाली प्राची भट्ट ने फाइनल रिजल्ट में 430 स्कोर किया है. 23 वर्षीय प्राची ने दून स्थित डीएवी पीजी कॉलेज से बीकॉम किया है. इसके बाद एमकॉम ओपन यूनिवर्सिटी से किया. प्राची के पिता सुनील भट्ट उत्तराखंड ग्रामीण बैंक में मैनेजर के पद पर जबकि माता हेमलता भट्ट प्रारम्भिक शिक्षा निदेशालय में उप निदेशक के पद पर कार्यरत हैं.

भूपेन्द्र नेगी भी सफल

मूल रुप से टिहरी निवासी भूपेन्द्र सिंह नेगी ने भी सीए में सफलता हासिल की है. भूपेन्द्र ने बताया कि उन्होंने प्रेमनगर में रहकर एग्जाम की तैयारी की. पिछले 5 वर्ष से वे सीए की तैयारी में जुटे रहे. भूपेन्द्र घर में सबसे बड़े हैं, भूपेन्द्र के परिवार में छोटा भाई और एक छोटी बहिन है.

सामान्य फेमिली से है रविन्द्र

पौड़ी निवासी रविंद्र चौहान को अपनी वषरें की मेहनत का ईनाम मिला है. उन्होंने सीए फाइनल में सफलता हासिल की है. रविंद्र एक बेहद सामान्य परिवार से ताल्लुख रखते हैं. पिता चित्रा सिंह सेना में हवलदार हैं और मां सरस्वती देवी गृहणी. रविंद्र ने पांचवीं तक की पढ़ाई शिशु मंदिर से की. इसके बाद बारहवीं आर्मी पब्लिक स्कूल लैंसडौन से की.

समनदीप को मेहनत का ईनाम

मोती बाजार निवासी समनदीप सिंह वाधवा ने भी सीए फाइनल में सफलता हासिल की है. समनदीप ने अपनी पढ़ाई शिमला स्थित विशप कॉटन स्कूल से की है. उन्होंने वर्ष 2012 में 74 फीसदी अंकों के साथ बाहरवीं की. इसके बाद स्नातक में प्रवेश लिया पर ध्येय था सीए बनने का. ऐसे में यूजी बीच में छोड़ दिया और पूरी तत्परता के साथ सीए की तैयारी में जुट गए. उनके पिता बलविंदर बिजनेसमैन हैं और मां सुरिंदर शिक्षिका.