- रेलवे कैंसर हॉस्पिटल लहरतारा को हाईटेक करने का काम जोरों पर

- महीने के अंत तक पीएम का आगमन संभावित, लोकार्पण की बढ़ी उम्मीद

-टाटा मेमोरियल कैंसर हॉस्पिटल के ऑफिसर्स ने किया इंस्पेक्शन

varanasi@inext.co.in

VARANASI

आपके अक्सर ये खबर अखबारों में बढ़ते होंगे कि रेलवे कैंसर हॉस्पिटल, लहरतारा को टाटा मेमोरियल कैंसर हॉस्पिटल हाईटेक कर रहा है. पर आज हम आपको बता रहे हैं कि इस नये कलेवर के हॉस्पिटल में कैंसर रोगियों का इलाज कब से शुरू होगा. 25 अप्रैल तक रेलवे कैंसर हॉस्पिटल की लेबोरेटरी बनकर तैयार हो जाएगी. संभावना यह भी जताई जा रही है कि महीने के अंत तक पीएम नरेंद्र मोदी का बनारस आगमन हो सकता है. इस दौरान कैंसर हॉस्पिटल के लोकार्पण की बात भी कही जा रही है. बहरहाल एक से 10 मई के बीच ओपीडी शुरू करने का प्लान है.

179 बेड का होगा हॉस्पिटल

इस संभावना को बल गुरुवार को तब मिला जब टाटा मेमोरियल कैंसर हॉस्पिटल के डायरेक्टर एकेडमिक डॉ. कैलाश शर्मा और उनकी टीम ने निर्माणाधीन हॉस्पिटल का मौका-मुआयना किया. डॉ. कैलाश ने बताया कि लहरतारा स्थित हॉस्पिटल में टोटल 179 बेड की सुविधा होगी. 60 बेड प्राइवेट व सेमी प्राइवेट होगा. 119 बेड जनरल वार्ड व डे केयर के लिए होगा. इस हॉस्पिटल के मूर्तरूप लेने के बाद यूपी समेत आसपास के छह राज्यों के लोगों को मुंबई तक का भागदौड़ नहीं करना होगा. यहीं पर हाईटेक ट्रीटमेंट मिलेगा.

मार्च तक करना था कार्य पूर्ण

टाटा मेमोरियल दोनों स्थानों पर उच्चस्तरीय सुविधाएं प्रदान करने में जुटा है. इस कार्य को मार्च 2018 तक पूरा करना था लेकिन स्थानीय परेशानियों के कारण दो महीने का लेट हो रहा है. रेलवे कैंसर संस्थान और बीएचयू का कैंसर रिसर्च सेंटर को मिलाकर टोटल 370 बेड उपलब्ध रहेंगे. जरूरत पड़ने पर इनकी संख्या बढ़ाई जा सकती है.

हाईटेक मशीनें, खुद का ब्लड बैंक

उच्चीकरण के बाद हॉस्पिटल के पास खुद की हाईटेक मशीनें और ब्लड बैंक होगा. यहां पहले ब्लड व बच्चों के कैंसर का ट्रीटमेंट स्टार्ट होगा. टाटा मेमोरियल की ओर से यहां बोनमैरो ट्रांसप्लांट की मॉडर्न मशीन भी लगाई जाएगी. बच्चों से जुड़े कैंसर के ट्रीटमेंट की ऐसी व्यवस्था की जाएगी कि पहले ही स्टेज में चिन्हित कर उसे खत्म किया जा सके.

दूर होगी एक्सपर्ट की कमी

इस संस्थान के जरिए कैंसर एक्सपर्ट की कमी भी दूर होगी. पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स और डीएनबी यानी डिप्लोमा ऑफ नेशनल बोर्ड से एक्सपर्ट डॉक्टर तैयार किए जाएंगे. बीएचयू सहित स्थानीय फैकल्टी को भी शिक्षा के लिए शामिल किया जाएगा.

हॉस्पिटल में फैसिलिटी

-बोनमैरो ट्रांसप्लांट

-हाई डोज रेट ब्रेकीथेरेपी

-कैंसर एक्सरे मशीन

-लीनियर एक्सीलरेटर रेडिएशन थेरेपी

-सेंट्रल इंफार्मेशन सिस्टम

-टेली मेडिसिन

-सेंट्रलाइज्ड ब्लड बैंक

-एमआरआई

-स्टाफ रूम एंड हॉस्टल

-मार्डन फायर फाइटिंग सिस्टम

-हाईटेक सीटी स्कैन सेंटर