नई दिल्ली (पीटीआई)। Coronavirus India update देश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। देश भर में 13 मौतों के साथ कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 649 हो गई है। जम्मू-कश्मीर में कोरोना से पहली माैत हुई है। यहां एक 65 साल के बुजुर्ग ने दम तोड़ा है। वहीं अकेले महाराष्ट्र मे कोरोना पाॅजिटिव मामलों की संख्या 124 हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कह कि इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिए सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। इंडियन आर्मी के हाॅस्पिटल भी काेरोना के मरीजों का उपचार करने के लिए तैयार हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन की अध्यक्षता में नई दिल्‍ली स्थित निर्माण भवन में कोविड-19 पर मंत्रियों की एक उच्चस्तरीय बैठक आयोजित की गई। इस दाैरान उन्होंने कहा कि हम एक संक्रामक बीमारी से लड़ रहे हैं। खुद को और दूसरों को बचाने के लिए, यह बेहद जरूरी है कि हम सरकार द्वारा जारी किए गए सभी प्रोटोकॉल, दिशानिर्देशों और निर्देशों का पालन करें। 14 दिन क्वारंटीन रहने में लापरवाही न करें।

क्वारंटीन नियम तोड़ने पर सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी

भारत में 21 मार्च, 2020 से लेकर अब तक लगभग 64,000 व्यक्ति अन्य देशों से आ चुके हैं, जिनमें से 8,000 लोगों को विभिन्न क्‍वारंटाइन केंद्रों में रखा गया है और 56,000 लोग अपने-अपने घरों में अलग-थलग रह रहे हैं। उन्होंने सरकार द्वारा जारी किए गए सभी प्रोटोकॉल, दिशानिर्देशों और निर्देशों का पालन न करने वालों यानी कि क्वारंटीन नियम तोड़ने वालों पर सख्त कानूनी कार्रवाई की जा सकती है।

कोरोना से बचने के लिए सरकार अथक प्रयास कर रही

स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों ने बार-बार दोहराया कि कोरोना से बचने के लिए सरकार अथक प्रयास कर रही है। वर्तमान में सभी सुरक्षा उपकरण (पीपीई) और एन -95 मास्क के व्यक्तिगत स्टॉक पर्याप्त संख्या में उपलब्ध हैं। सरकार जानती थी कि पीपीई और मास्क के आयात में प्राॅब्लम हो सकती है। इसलिए पहले ही 31 जनवरी की शुरुआत में मास्क-पीपीई के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया था। ।

25 मार्च से अगले 21 दिन के लिए देश लाॅकडाउन हुआ

बता दें कि भारत में कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने 25 मार्च से अगले 21 दिन के लिए देश को लाॅकडाउन कर दिया है। पीएम ने कहा था कि इससे दिक्कत तो होगी लेकिन देश बच जाएगा। आने वाले ये 21 दिन देश का भविष्य तय करेंगे या तो देश संकट से निकल कर आगे बढ़ जाएगा या फिर 21 साल पीछे चला जाएगा। जीने के लिए सभी जरूरी चीजों की उपलब्धता बनी रहेगी।

Posted By: Shweta Mishra

National News inextlive from India News Desk