JAMSHEDPUR: टाटा स्टील देश की सबसे पुरानी स्टील इंडस्ट्री होने के साथ ही लैब भी है. ओडिशा का होने के नाते मैं कई बार कोल्हान सहित जमशेदपुर आ चुका हूं, लेकिन इस्पात मंत्री बनने के बाद मैं एक विद्यार्थी होने के नाते यहां सीखने आया हूं. सोनारी एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बात करते हुए पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस व इस्पात विभाग के केंद्रीय मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने ये बातें कहीं.

पहली बार झारखंड दौरे पर

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुझे इस्पात विभाग की जिम्मेदारी जब से सौंपी है, उसके बाद मैं पहली बार झारखंड के दौरे पर आया हूं. स्टील इंडस्ट्री के लिए झारखंड तीर्थ स्थल के समान है. पिछले तीन दिनों में मैं बोकारो सहित माइनिंग बेल्ट के नोवामुंडी, किरीबुरू, गुवा, बोलानी जैसे सेल व टाटा स्टील के माइनिंग सेक्टर को देख रहा हूं. बतौर इस्पात मंत्री इस क्षेत्र में अपनी समझ बढ़ा रहा हूं. कहा कि देश स्टील के क्षेत्र में आत्मनिर्भर हो चुका है. आज स्टील अंतरराष्ट्रीय कमोडिटी की तरह है. इसके रेट में उतार-चढ़ाव का देश की अर्थव्यवस्था पर भी असर पड़ता है. देश की अर्थनीति में स्टील मजबूत स्तंभ है, इसलिए मैं स्टील इंडस्ट्री के इको सिस्टम को समझने आया हूं. स्टील की कीमत निचले स्तर पर होने के सवाल पर इस्पात मंत्री ने कहा कि मैं एक विद्यार्थी हूं और सीखने आया हूं. भविष्य में देखेंगे कि इस क्षेत्र में किस तरह की समस्या है और उसी के अनुसार उसका समाधान भी किया जाएगा.

10.30 बजे पहुंचे

सोनारी एयरपोर्ट पर वे सुबह साढ़े दस बजे आए. यहां केंद्रीय मंत्री की अगवानी के लिए टाटा स्टील के सीईओ सह एमडी टीवी नरेंद्रन, वाइस प्रेसिडेंट चाणक्य चौधरी, राज्य सरकार के खाद्य मंत्री सरयू राय, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष दिनेशानंद गोस्वामी सहित बड़ी संख्या में भाजपा नेता उपस्थित थे. इसके बाद वे अपने काफिले के साथ टाटा स्टील कंपनी के भ्रमण करने के लिए रवाना हो गए.

टाटा स्टील प्लांट का दौरा किया

इस्पात मंत्री मंगलवार सुबह टाटा स्टील प्लांट का दौरा किया और पूरे प्लांट की इंजीनिय¨रग व ले टाउट से परिचित हुए. एयरपोर्ट से रवाना होने के बाद इस्पात मंत्री सीधे सेंटर फॉर एक्सिलेंस पहुंचे. यहां उन्होंने टाटा स्टील के संस्थापक व कंपनी की स्थापना के जाना. इसके बाद वे टाटा स्टील के जनरल ऑफिस पहुंचे और कंपनी का पूरा ले आउट देखा और ऑपरेशन से परिचित हुए. इसके बाद धर्मेद्र प्रधान ने ब्लास्ट फर्नेस, रॉ मटेरियल, एलडी-1, एलडी-2, एलडी-3, फिनिशिंग लाइन, न्यू बार मिल और जमशेदपुर कंटीन्युअस एनालिंग एंड प्रोसेसिंग कंपनी लिमिटेड (जेसीएपीसीपीएल) जैसे आधुनिक प्लांट का दौरा भी किया. इसके बाद वे बिजनेस सेंटर पहुंचे और वाइस प्रेसिडेंट (इंजीनिय¨रग एंड प्रोजेक्ट) आरआर झा के साथ बैठक कर कंपनी की समस्याओं से परिचित हुए. वहीं, कंपनी में इनोवेशन और डिजिटलाइजेशन को भी पावर प्रजेंटेशन के माध्यम से देखा. इसके बाद दोपहर लगभग एक बजे डायरेक्टर बंगले में एमडी सह सीईओ टीवी नरेंद्रन सहित कंपनी के वरीय अधिकारियों के साथ दोपहर का भोजन कर वापस सोनारी एयरपोर्ट पहुंचे और रांची के लिए उड़ान भरी. इस दौरान उनके साथ इस्पात विभाग की उप सचिव रशिका चौबे भी उपस्थित थी.