छ्वन्रूस्॥श्वष्ठक्कक्त्र: टाटा स्टील में नैतिकता (एथिक्स) सर्वोपरि है. कंपनी को नैतिक मूल्यों को हमें हर कीमत पर बनाए रखना है. टाटा स्टील कंपनी परिसर में बुधवार शाम एथिक्स माह को संबोधित करते हुए कंपनी के सीईओ सह एमडी टीवी नरेंद्रन ने ये बातें कहीं. उन्होंने कहा कि 112 वर्ष पुरानी कंपनी में जेआरडी टाटा के समय से ही नैतिक मूल्यों पर जोर दिया जा रहा है. कंपनी में एथिक्स के नियम सभी के लिए बराबर है. उन्होंने जोर देते हुए कहा कि कोई भी व्यक्ति अगर इसका उल्लघंन करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई जरूर होगी. फिर चाहे वो कंपनी का कोई वरीय अधिकारी हो या यूनियन का कोई बड़ा नेता. या फिर वेंडर कंपनी हो या ठेकाकर्मी. सभी इसके दायरे में आते हैं. इसे हर कीमत में हमें बनाए रखना है. वहीं, टाटा वर्कर्स यूनियन अध्यक्ष आर रवि प्रसाद ने इशारों ही इशारों में कहा कि कई बार उन्हें कमेटी मेंबरों से सुनने को मिलता है कि कई दुर्घटनाओं को सेफ्टी के कारण दबाने को कहा जाता है जबकि एथिक्स के तहत ऐसा करना गलत है. इस मौके पर यूनियन के डिप्टी प्रेसिडेंट अरविंद पांडेय, महासचिव सतीश कुमार सिंह, एथिक्स काउंसलर सोनी सहित बड़ी संख्या में विभागीय चीफ, हेड सहित कंपनी के अन्य वरीय अधिकारी उपस्थित थे.

शेयर्ड सर्विसेज बना ओवर ऑल चैम्पियन

कार्यक्रम मिठाई के डिब्बे में सोने की अंगूठी, कंपनी के पेपर पेंसिल का इस्तेमाल घर में करने सहित नैतिकता से संबधित कई लघु नाटिका की प्रस्तुति की गई. इसमें शेयर्ड सर्विसेज सबसे ज्यादा पुरस्कार जीतने के लिए ओवर ऑल चैंपियन बना. वहीं, कलिंगानगर, टीएसपीडीएल सहित अन्य विभागों को भी पोस्टर, क्विज, लेखन जैसी प्रतियोगिताओं के लिए पुरस्कार जीते.