gorakhpur@inext.co.in
GORAKHPUR: छोटी सी मिस्टेक से फेल होने के बाद स्टूडेंट को अब प्राइवेट नहीं पढ़ना पढ़ेगा. सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजुकेशन ने इंटर और हाई स्कूल में फेल होने वाले छात्रों को बड़ी राहत दी है. अब बोर्ड एग्जाम में फेल स्टूडेंट भी रेग्युलर पढ़ाई कर सकेंगे. इसके लिए सीबीएसई ने नई गाइड लाइन भी जारी कर दी है. अभी तक फेल होने के बाद स्टूडेंट को प्राइवेट कर दिया जाता था. वो सेल्फ स्टडी के जरिए पढ़ाई करता था. इस गाइड लाइन के आने के बाद ऐसा नहीं होगा.

स्कूलों को देना होगा रेग्युलर एडमिशन
अभी तक जो स्टूडेंट हाई स्कूल या 12वीं में फेल हो जाता था उसे आगे प्राइवेट फॉर्म भरकर सेल्फ स्ट्डी के भरोसे पढ़ाई करनी पड़ती थी. जिससे उसकी पढ़ाई तो डिस्टर्ब होती ही थी साथ में उसकी मार्कशीट पर भी प्राइवेट प्रकाशित किया जाता था. इसको देखते हुए सीबीएसई ने नई व्यवस्था शुरू की है. जिसके मुताबिक स्कूलों को इंटर या हाई स्कूल फेल स्टूडेंट का एडमिशन रेग्युलर में करना अनिवार्य है. वे इसे इग्नोर नहीं कर सकते हैं. यह नियम कंपार्टमेंटल एग्जाम में फेल स्टूडेंट के लिए भी लागू होगा. अब स्टूडेंट उसी स्कूल से फिर से रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे जहां से उन्होंने बोर्ड एग्जाम दिया था.

बोर्ड ने तय की फीस
सीबीएसई बोर्ड ने इसके लिए फीस भी तय की है. अब फेल स्टूडेंट को रेग्युलर पढ़ने के लिए पांच हजार रुपए फीस देनी होगी. यही फीस बोर्ड इयर में स्कूल बदलने वाले स्टूडेंट के लिए भी रखी गई है. ये भी नई गाइड लाइन में दिया गया है.

नई गाइड लाइन के अनुसार अब हाई स्कूल और इंटर के फेल स्टूडेंट को भी रेग्युलर एडमिशन मिलेगा. इसके लिए बोर्ड ने फीस भी तय कर दी है.
- विशाल त्रिपाठी, कोऑर्डिनेटर सीबीएसई