मुंबई (पीटीआई)। आरटीजीएस और एनईएफटी के जरिए अकसर ऑनलाइन फंड ट्रांसफर करने वालों के लिए अच्छी खबर है कि ये माध्यम अब और सस्ता हो रहा है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के फैसले के मुताबिक सोमवार यानी की आज से आरटीजीएस और एनईएफटी से फंड ट्रांसफर करने पर कोई शुल्क नहीं लगेगा। अपने इस फैसले के बाद आरबीआई ने सभी बैंकों को कहा कि वो ग्राहकों को मिलने वाले लाभों के बारे में उन्हें उसी दिन बताएं। दरअसल ये सेवाएं सिर्फ बैंकों के लिए निशुल्क की गई हैं पर उपभोक्ताओं के लिए ये बस सस्ती हुई हैं।

उपभोक्ताओं के लिए फंड ट्रांसफर हुआ सस्ता

द रियल टाइम ग्रास सेटलमेंट सिस्टम(आरटीजीएस) को बड़ा अमाउंट ट्रांसफर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है जबकि नेशनल इलेक्ट्रानिक फंड्स ट्रांसफर सिस्टम(एनईएफटी ) से सिर्फ 2 लाख तक की राशि ट्रांसफर की जा सकती है। इंडियन बैंक एसोशिएशन के चेयरमैन सुनील मेहता ने एक आईबीए के न्यूज लेटर में कहा, 'डिजिटल ट्रांसजेक्शन को बढ़ावा देने के लिए आरबीआई ने ये फैसला लिया है कि आरटीजीएस और एनईएफटी से फंड ट्रांसफर निशुल्क होगा। इसकी वजह से बैंकें इन ट्रांसजेक्शन्स के लोगों से कम चार्ज लेंगी।'

आज से रसोई गैस 100 रुपये सस्ती

माइक्रोसाॅफ्ट फाउंडर बिल गेट्स बोले एंड्राइड लाॅन्च होने देना मेरे जीवन की सबसे बड़ी गलती

एसबीआई फंड ट्रांसफर के इतने पैसे करता है चार्ज

देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई एनईएफटी से फंड ट्रांसफर करने के 1 रुपये से 5 रुपये चार्ज करता है। वहीं आरटीजीएस से फंड ट्रांसफर करने पर एसबीआई 5 रुपये से 50 रुपये चार्ज करता है। डिजीटल ट्रांसजेक्शन को बढ़ावा देने के लिए आरबीआई ने आरटीजीएस के माध्यम से फंड ट्रांसफर प्रोसेसिंग चार्जेस से दूर रहने का और समय के आधार पर चार्ज माफ करने का फैसला लिया है। वहीं एनईएफटी सें ट्रांसफर करने पर भी प्रोस चार्ज निशुल्क होगा।

Posted By: Vandana Sharma

Business News inextlive from Business News Desk