- करीब डेढ़ साल से आर्थिक तंगी के चलते नहीं करा पा रहा था हार्निया का ऑपरेशन

- आयुष्मान भारत योजना से जुड़ने के बाद जिला अस्पताल में हुआ फ्री ऑपरेशन

बरेली : वर्ष 2018 के सितंबर में लागू हुई आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना का लाभ जटिल बीमारियों से पीडि़त मरीजों को मिलने लगा है. योजना के तहत अब तक कई ऐसे लोगों का इलाज किया जा चुका है जो लंबे समय से बीमारी से पीडि़त थे, लेकिन आर्थिक तंगी के चलते इलाज नहीं करवा पा रहे थे. उनमें से एक हैं सीबीगंज क्षेत्र के गांव सनैया निवासी अतीक अहमद. उम्र 65 वर्ष पेशे से पेंटर. करीब डेढ़ साल पहले उन्हें हार्निया की दिक्कत हुई. कई प्राइवेट अस्पताल में वह इलाज के लिए गए लेकिन आर्थिक तंगी के चलते सभी अस्पतालों से उन्हें निराशा ही हाथ लगी. दो दिन पहले योजना के तहत जिला अस्पताल में उनका ऑपरेशन किया गया और दो दिन बाद उन्हें यहां से डिस्चार्ज भी कर दिया जाएगा.

योजना से मिली नई जिंदगी

मंडल स्तर पर योजना अमल में आने के बाद सर्वे प्रारंभ हुए तो उन्होने आयुष्मान योजना में पंजीकरण कराया और कार्ड होल्डर बन गए. उनके बेटे नदीम ने जिला अस्पताल में 25 फरवरी को संपर्क किया और पिता को यहां भर्ती करा दिया. 27 फरवरी को उनका सफल ऑपरेशन हो गया. इस समय वह जिला अस्पताल के सर्जिकल वार्ड में भर्ती हैं दो दिन के बाद उन्हें यहां से घर भेज दिया जाएगा. उनका कहना है कि इस योजना ने उन्हें नई जिंदगी दी है.

क्या बोले अतीक

आयुष्मान योजना ने मुझे नई जिंदगी दी है. घर की आर्थिक स्थिति बहुत खराब है. जीवन भर में यह ऑपरेशन करना संभव नहीं था, प्राईवेट अस्पतालों में ऑपरेशन के लिए मोटी रकम मांगी गई थी लेकिन यहां एक भी रुपया खर्च नहीं हुआ.

योजना पर एक नजर

2.30 लाख डिस्ट्रिक्ट में रजिस्टर्ड लाभार्थी

5053 कार्ड होल्डर

3,388 मरीजों को मिल चुका है इलाज

वर्जन ---

आयुष्मान योजना एक अनूठी पहल है. कई जटिल बीमारी से पीडि़त मरीजों का इलाज इस योजना के अंतर्गत किया गया है. अभी प्रक्रिया जारी है. ज्यादा से ज्यादा लोग इस योजना का लाभ लें इसके लिए जागरुकता अभियान भी चलाया जा रहा है.

डॉ. वीके शुक्ला, सीएमओ.