- गुड फ्राइडे पर चर्चेज में आयोजित हुई प्रार्थना सभाएं

- मसीही समुदाय के लोगों ने बड़ी संख्या में की शिरकत

<- गुड फ्राइडे पर चर्चेज में आयोजित हुई प्रार्थना सभाएं

- मसीही समुदाय के लोगों ने बड़ी संख्या में की शिरकत

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: दुनिया में मानवता व प्रेम की स्थापना के लिए प्रभु यीशु ने खुद का बलिदान कर दिया. उन्होंने हमेशा लोगों को असहायों व निर्बलों की सहायता करने का संदेश दिया. फ्राइडे को सिटी के चर्चेज में इन्हीं संदेश के साथ लोगों ने गुड फ्राइडे मनाया. इस मौके पर विशेष प्रार्थना सभाओं का आयोजन भी हुआ. जिसमें बड़ी संख्या में मसीही समुदाय के लोगों ने सहभागिता की. प्रार्थना सभा के बाद चर्च के फादर ने लोगों को प्रभु यीशु के बताएं रास्ते पर चलने और मानवता के लिए दिए गए उनके संदेश को बताया. सिटी के पत्थर गिरजाघर, सेंट पॉल चर्च, सेंज जोसेफ चर्च समेत अन्य चर्चेज में भी विशेष प्रार्थना सभाओं को आयोजन हुआ. जहां आज के दिन के महत्व और प्रभु द्वारा मनुष्यों के पापों के लिए खुद का बलिदान किए जाने के बारे में बताया गया.

सात वचनों पर भी हुई चर्चा

बिशप जानसन कालेज में आयोजित हुई विशेष पूजा व प्रार्थना के दौरान सेंट पॉल चर्च के फादर डॉ. रेव्ह. एसपी लाल ने प्रभु यीशु द्वारा अपना बलिदान देने के पूर्व दिए गए सात वचनों के बारे में लोगों को जानकारी दी. उन्होंने इन सात वचनों को विस्तार से लोगों के बीच में रखा और प्रभु के संदेश को जन-जन तक पहुंचाने के लिए लोगों को प्रेरित किया. उन्होंने बताया कि प्रभु ने सिर्फ हम मनुष्यों को हमारे पापों से उद्धार करने के लिए अपना बलिदान देकर लोगों को मानवता का संदेश दिया. इस दौरान राजेश कीडर, डीकनेस कमला सिंह समेत अन्य लोगों ने भी प्रभु के संदेश पर चर्चा की. यीशु दरबार में भी गुड फ्राइडे के दिन विशेष प्रार्थना सभा का आयोजन हुआ. जिसमें बिशप मोस्ट रेव्ह. राजेन्द्र बी लाल ने यीशु के अनुयायियों से अपील करते हुए कहा कि वे मृत्यु के भय को छोड़कर प्रभु के बताए सत्य व शांति के मार्ग पर चलें, तभी उनका उद्धार हो सकेगा. इसके पहले प्रोग्राम की शुरुआत प्रभु यीशु की प्रार्थना से हुई. जिसे बाद प्रभु यीशु द्वारा दिए गए वचनों को लोगों के सामने रखा गया. रेव्ह जय प्रकाश ने पहला वचन 'हे पिता इन्हें क्षमा कर' को लोगों के सामने पेश किया. इसके बाद डॉ. रिचमण्ड सैमुअल ने दूसरा वचन 'आज ही तू मेरे साथ स्वर्ग लोक में होगा' को रखा और उसके पीछे के अर्थ को बताया. तीसरा वचन डा. विशाल मंगलवादी ने रखा. जिसमें उन्होंने बताया कि प्रभु यीशु ने कहा कि 'हे नारी ये तेरा पुत्र है'. इसके बाद चौथा वचन 'एली, एली लमा शबक्तनी', पांचवे वचन में 'मै प्यासा हूं', छठे वचन में 'पूरा हुआ' को यीशु दरबार की उपाध्यक्ष डॉ. सुधा लाल ने विस्तार पूर्वक बताया. आखिर में मोस्ट रेव्ह प्रो. राजेन्द्र बी लाल ने यीशु द्वारा दिए गए सातवें वचन 'मै अपनी आत्मा तेरे हाथों में सौंपता हूं' के जरिए दिए संदेश के बारे में लोगों का बताया. इस दौरान उन्होंने प्रभु से जुड़े अन्य बातों पर भी चर्चा की.

मसीही गीतों का भी आयोजन

गुड फ्राइडे के प्रोग्राम के दौरान कई अन्य एक्टिविटीज भी आयोजित हुई. यीशु दरबार में प्रार्थना सभा के पूर्व कैंपस के बच्चों टुम्पा, कामना, प्रार्थना ने मसीही गीत वागेगत सम्मी से पूछो रह रह के क्या बताये, जीवन के दाता मसीह ने छुट छुट के प्राण गंवाये की शानदार प्रस्तुति करके लोगों को प्रभु यीशु के बलिदान के बारे में बताया. दरबार भजन मण्डली ने जीवनदाता है मुक्तिदाता मोरो यीशु प्रभु की प्रस्तुति दी. मीडिया प्रभारी डॉ. अरूण यादव ने बताया कि ख्0 अप्रैल को सुबह चार बजे ईस्टर जुलूस मुख्य कैपस से होकर निकलेगा. जिसमें पाकिस्तान के फेमस मसीही सिंगर बरीन इनायत अपनी प्रस्तुति देंगे. इसके साथ ही पांच बजे ईस्टर डॉन सर्विस का आयोजन भी होगा. जिसमें मुख्य वक्ता डॉ. सुधा लाल होगी.