- शहर में बड़ी मात्रा में मिलावटी खोवा को खपाने की तैयारी

14 मार्च से शुरू होगा छापामारी अभियान, दुग्ध उत्पादों पर होगी खास नजर

- शासन ने दिया अभियान चलाने का निर्देश

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD:

होली पर मिलावटखोरों पर लगाम लगाने की तैयारियां शुरू हो चुकी है. शासन की ओर से छापेमारी अभियान चलाने के निर्देश दिए गए हैं. खाद्य सुरक्षा विभाग को मिलावटखोरों से सख्ती से निपटने के लिए कहा गया है. आदेश जारी होते ही विभाग ने टीमें बनाकर अलग-अलग मार्केट में छापेमारी की तैयारी शुरू कर दी है.

संभलकर खाएं खोआ

होली पर दुग्ध उत्पादों की खासी खपत होती है. जिसका लाभ उठाने के लिए मिलावटखोर सक्रिय हो गए हैं. पब्लिक की सेहत को नुकसान न पहुंचे, जिसको लेकर शासन ने 14 से 21 मार्च के बीच सघन अभियान चलाने का निर्देश जारी किया है. आदेश जारी होते ही चौक, कटरा, मुट्ठीगंज, कीडगंज, अल्लापुर आदि खोआ मार्केट में छापेमारी की तैयारी शुरू हो गई है. इसके साथ दूध, दही, मसाले, पेय पदार्थो, नमकीन आदि की भी जांच कर सैंपल भेजा जाएगा. पिछले साल होली पर एक दर्जन से अधिक सैंपल फेल हो गए थे, जिसको लेकर शासन इस बार कोई लापरवाही बरतने के मूड में नहीं है.

बॉक्स..

इंस्पेक्टर्स की कमी से दिक्कत

एक ओर होली को लेकर छापेमारी अभियान चलाया जाना है तो दूसरी ओर हाईकोर्ट की 150 वर्षगांठ के कार्यक्रम में फूड इंस्पेक्टर्स को 21 मार्च तक लगाया गया है. कार्यक्रम में आने वाले राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी और चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया समेत अन्य विशिष्ट जनों के प्रोटोकॉल के चलते फूड इंस्पेक्टर्स की यहां मौजूदगी जरूरी होगी. उधर, विभाग का कहना है कि उसके पास महज छह फूड इंस्पेक्टर हैं और नवागत दस इंस्पेक्टर्स को नोटिफिकेशन नहीं हुआ है. इसके चलते आधा दर्जन इंस्पेक्टर्स के बलबूते अभियान चलाना आसान नहीं होगा.

मिलावट से बचने को खुद करें जांच

त्योहार पर मिलावटखोरी से बचना है तो घर पर ही दुग्ध उत्पादों की जांच आसानी से की जा सकती है. आई नेक्स्ट आपको बताएगा कि कैसे खोआ, दूध, दही आदि में की गई खतरनाक मिलावट की जांच की जा सकती है..

पानी की मिलावट

दूध की बूंद पालिश्ड स्लांटिंग सरफेस पर डालने से वह तेजी से आगे बढ़ती है और पीछे कोई मार्क नहीं छोड़ती, जबकि खालिस दूध की बूंद सफेद मार्क छोड़ते हुए धीरे-धीरे आगे बढ़ती है.

स्टार्च की मिलावट

दूध में आयोडीन साल्यूशन मिलाने पर अगर यह नीला रंग शो करता है तो जानिए स्टार्च मौजूद है.

यूरिया की मिलावट

टेस्ट ट्यूब में एक चम्मच दूध डालें. इसमें आधा चम्मच सोयाबीन या अरहर का पावडर मिलाएं. इन्हें कायदे से मिक्स करें. अब इसमें रेड लिटमस पेपर डालें. आधा मिनट पर अगर पेपर का कलर बदलकर नीला हो जाए तो यूरिया की मौजूदगी निश्चित है.

वनस्पति की मिलावट- तीन मिलीलीटर दूध को टेस्ट ट्यूब में लीजिए. इसमें दस बूंद हाइड्रोक्लोराइड एसिड मिलाइए. इसमें एक चम्मच चीनी मिलाइए. पांच मिनट बाद अगर मिक्स्चर का कलर रेड हो तो इसमें वनस्पति की मिलावट है.

फार्मेलिन की मिलावट

दस मिलीलीटर दूध को टेस्ट ट्यूब में डालिए. इसमें पांच मिली कॉन सल्फरिक एसिड ट्यूट की साइड से बिना हिलाइए डालिए. अगर नीले रंग की रिंग दो लेयर में बनती है तो फार्मेलिन की मिलावट की गई है.

डिटर्जेट की मिलावट

पांच से दस मिली दूध को इतने ही पानी में मिलाकर जोर हिलाएं. अगर झाग बन रहा है तो डिटर्जेट की मिलावट है.

कैसे पहचाने सिंथेटिक मिल्क

दूध को जलाने पर पीला कलर छोड़ता है. इसका टेस्ट अलग होता है.

प्रोटीन की मिलावट

यूरियाज स्ट्रिप में डालने पर सिंथेटिक मिल्क प्रोटीन में बंट जाता है.

ग्लूकोज या शुगर की मिलावट

दूध में ग्लूकोज समाहित नहीं होता. यूरियाज स्ट्रिप में दूध टेस्ट करने से यह पॉजिटिव रिजल्ट देता है. यह स्ट्रिप आसानी से मेडिकल स्टोर्स पर अवेलेबल है.

घी, काटेज चीज, कंडेंस्ड मिल्क, खोआ, मिल्क पावडर आदि में कोलतार डाइज की मिलावट- दूध में पांच मिलीलीटर एचटूएसओफोर या कंसंट्रेटेड एचसीएल मिलाकर टेस्ट ट्यूब में जोर से हिलाएं. पिंक कलर या क्रिम्सन कलर देने पर कोलतार डाइज की पुष्टि हो जाती है.

मीठे दही में वनस्पति की मिलावट एक चम्मच दही को टेस्ट ट्यूब में डालकर दस बूंद एचसीएल एसिड मिलाएं. उसे जोर से हिलाएं और पांच मिनट बाद मिक्स्चर लाल कलर शो करता है तेा वनस्पति की मिलावट है.

खोवा में स्टार्च की मिलावट

थोड़े से खोवे को पानी के साथ उबालें. ठंडा होने पर इसमें आयोडिन साल्यूशन मिलाएं. नीला रंग आने पर स्टार्च मिलावट की पुष्टि हो जाएगी.

ऐसे तैयार होता है सिंथेटिक मिल्क -कलर वाटर पेंट, ऑयल, अलकली यूरिया

- डिटर्जेट, ग्लूकोज, इनवर्टेड शुगर सिरप मिलाकर बनता है.

होली को देखते हुए शासन से छापेमारी के निर्देश मिले हैं. 14 मार्च से टीमें बनाकर शहर की महत्वपूर्ण बाजारों में मिलावटखोरों की धरपकड़ की जाएगी.

हरिमोहन श्रीवास्तव, डीओ, खाद्य सुरक्षा विभाग इलाहाबाद