कानपुर (इंटरनेट डेस्क)। Hanuman Jayanti 2021 हनुमान जयंती हर साल चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को मनाई जाती है। हनुमान, जिन्हें वानर भगवान के रूप में भी जाना जाता है, इस दिन उनका जन्म हुआ था। दृक पंचांग के मुताबिक इस साल यह तिथि 27 अप्रैल को मनाई जाएगी। पूर्णिमा तिथि 26 अप्रैल को 12:44 पीएम से शुरू होगी और 27 अप्रैल, 2021 को 9:01 एएम पर समाप्त होगी। इस दिन भक्त भगवान हनुमान की पूजा करते हैं और विशेष आरती करते हैं। इस खास दिन पर भक्तगण माथे पर तिल का टीका भी लगाते हैं। हनुमान, भगवान राम एवं सीता माता के अनन्य भक्त हैं, इन्हें आञ्जनेय के नाम से भी जाना जाता है।

हनुमान जी का जन्म सूर्योदय के समय हुआ था
हिंदू धर्म में मान्यता है कि हनुमान जी का जन्म सूर्योदय के समय हुआ था। हनुमान जयंती के दिन मन्दिरों में सुबह ब्रह्ममुहूर्त में आध्यात्मिक प्रवचनों का आयोजन किया जाता है और यह आयोजन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाते हैं। इस शुभ दिन पर भक्त भगवान हनुमान का पूजन कर उन्हें लाल सिंदूर और फूल भी चढ़ाते हैं। इस दिन जगह-जगह भक्त प्रसाद भी वितरित करते हैं और जरूरतमंदों को भोजन कराते हैं।

भगवान हनुमान के पूजन से सभी कार्य पूरे होते
भगवान हनुमान को मारुति, रुद्र, संकट मोचन, बजरंगबली, अजंनस्य, महाबली जैसे नामों से भी पुकारा जाता है। इसके साथ ही राम भक्त हनुमान भगवान शिव के 11 वें अवतार माने जाते हैं। हनुमान जी की पूजा बलवानों द्वारा की जाती है। इसके साथ ही शास्त्रों में ये कहा जाता है कि प्रभू श्री राम की पूजा के बिना हनुमान जी प्रसन्न नहीं होते हैं। भगवान हनुमान के पूजन से सभी कार्य पूरे होते हैं व बाधाएं दूर होती हैं।