इस्लामाबाद (पीटीआई)। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने रविवार को अपने भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी को शांति का एक मौका देने के लिए कहा और उन्हें आश्वासन दिया कि यदि भारत पुलवामा हमले की उन्हें कोई भी सबूत देगा तो वह अपने शब्दों से पीछे नहीं हटेंगे और तुरंत आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। खान का यह बयान मोदी द्वारा राजस्थान में दिए गए उस बयान के बाद आया है, जिसमें उन्होंने कहा, 'आतंकवाद के प्रति पूरी दुनिया में एक ही राय है, हम आतंक फैलाने वाले को खत्म करने की राह में आगे बढ़ रहे हैं, भारत अब बदल गया है, इस दर्द को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा, हम अच्छी तरह से जानते हैं कि आतंकवाद को कैसे खत्म किया जा सकता है।'

पहले भी कही यह बात
इस बयान के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है, 'पीएम मोदी को शांति का एक मौका देना चाहिए, हम अपने शब्दों पर खड़े हैं, अगर भारत हमें कार्रवाई करने योग्य कोई सबूत देता है, तो हम तुरंत कार्रवाई करेंगे।' इससे पहले 19 फरवरी को भी खान ने भारत को आश्वासन दिया था कि वह सबूत मिलने के बाद पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद (JeM) आतंकी समूह के आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।

मंत्रालय ने दिया था कड़ा जवाब
इमरान खान के इस बयान के बाद भारत के विदेश मंत्रालय ने कहा था, 'यह सभी जानते हैं कि जैश-ए-मोहम्मद और उसके नेता मसूद अजहर पाकिस्तान में हैं। पाकिस्तान को कार्रवाई करने के लिए यह सबूत पर्याप्त होना चाहिए, अगर भारत सबूत देगा है तो पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इस मामले में कार्रवाई करेंगे। यह सिर्फ एक बहाना है। 26/11 को मुंबई में हुए हमले में पाकिस्तान को सबूत दिया गया था। इसके बावजूद, पिछले 10 वर्षों से यह मामला आगे नहीं बढ़ा है। इसी तरह पठानकोट एयरबेस पर हुए आतंकी हमले पर भी कोई प्रगति नहीं हुई है।

पुलवामा हमले के 5 दिन बाद सेना में भर्ती होने के लिए उमड़े देश भक्त कश्मीरी युवा

International News inextlive from World News Desk