नई दिल्ली (पीटीआई)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा के बाद इंडियन प्रीमियर लीग के रद होने का खतरा मंडरा रहा है। बीसीसीआई ने इस महीने की शुरुआत में आईपीएल को 15 अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दिया था। उस वक्त बोर्ड ने कहा था कि टूर्नामेंट की मेजबानी केवल महामारी की स्थिति में सुधार होने पर ही होगी। हालाँकि तब से स्थिति और बिगड़ गई है। भारत में कोरोना के पॉजिटिव केस 500 के पार पहुंच चुके हैं। पीटीआई से बात करते हुए, बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा, 'मैं इस समय कुछ नहीं कह सकता। हम उसी जगह पर हैं जहां हम उस दिन थे जब हमने स्थगित किया था। पिछले 10 दिनों में कुछ भी नहीं बदला है। इसलिए, मेरे पास इसका जवाब नहीं है। यथास्थिति बनी हुई है।"

किंग्स इलेवन पंजाब के मालिक नेस वाडिया ने कही ये बात

किंग्स इलेवन पंजाब के मालिक नेस वाडिया इस बार आईपीएल आयोजन के पक्ष में नहीं हैं। ्यङ्गढ्ढक्क के सह-मालिक वाडिया ने पीटीआई को बताया, "बीसीसीआई को वास्तव में अब आईपीएल को स्थगित करने पर विचार करना चाहिए। यह एक बड़ी घटना है। हमें एक बड़ी जिम्मेदारी के साथ कार्य करने की आवश्यकता है। हमें जान बचाने की जरूरत है। भले ही स्थिति मई तक सुधर जाए और मुझे उम्मीद है कि ऐसा होगा, मगर उसके बाद विदेशी खिलाडिय़ों का क्या भारत आने की इजाजत मिलेगी।

अब आईपीएल का आयोजन संभव नहीं

इससे पहले मंगलवार को, बीसीसीआई और टीम के मालिकों की मीटिंग को स्थगित कर दिया गया था क्योंकि देश और दुनिया में कोविड-19 मामलों में वृद्धि जारी है। स्टार-स्टड वाली आठ-टीमों वाली इस लीग की शुरुआत मूल रूप से 29 मार्च को मुंबई में शुरू होने वाली थी। बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा, "अगर ओलंपिक को एक साल के लिए स्थगित किया जा सकता है, तो आईपीएल उस लिहाज से बहुत छोटी इकाई है। इसे आयोजित करना कठिन होता जा रहा है। इस बिंदु पर सरकार विदेशी वीजा की अनुमति देने के बारे में भी नहीं सोच रही है।" बीसीसीआई के एक दिग्गज ने कहा, "21 दिन की लॉकडाउन के साथ, यह लगभग असंभव है कि चीजें 14 अप्रैल तक सामान्य हो जाएंगी। इसमें सुधार हो सकता है लेकिन बहुत सारे प्रतिबंध लागू होंगे। इसलिए लीग को रद नहीं करना मूर्खता होगी।"

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

Cricket News inextlive from Cricket News Desk