-आईपीएल के साथ एक और 'आईपीएल' (इंडियन पॉलीटिकल लीग) छाया सट्टा मार्केट में

-सट्टा मार्केट से लगभग गायब है गोरखपुर, रायबरेली, अमेठी और मैनपुरी

-लखनऊ, वाराणसी के साथ डुमरियागंज, बांसगांव और देवरिया पर भी लग रहा सट्टा

GORAKHPUR: लोकसभा इलेक्शन ख्0क्ब् की वोटिंग के म् चरण पूरे हो चुके हैं. अभी भी फ् चरण की वोटिंग होना बाकी है, जो फ्0 अप्रैल, 7 मई और क्ख् मई को होगी. इसके बाद क्म् मई को होने वाली काउंटिंग के बाद डिक्लेयर होगा कि कौन देश की सत्ता पर विराजेगा? हालांकि डिफरेंट सर्वे रिपोर्ट किसी एक के पक्ष में नहीं है, मगर सट्टा मार्केट में बीजेपी कांग्रेस पर जरूर भारी दिख रही है. आईपीएल का सट्टा अभी खत्म नहीं हुआ है कि सटोरियों ने देश के सबसे बड़े इलेक्शन लोकसभा पर भी बिड लगाना स्टार्ट कर दिया है. सटोरिये बीजेपी का पलड़ा भारी मान रहे हैं, तभी उन्होंने उसका रेट क्0 पर क्8 का लगाया है जबकि कांग्रेस का क्0 पर ख्8 का रेट है. अन्य पार्टी को सटोरियों ने अपनी बिडिंग लिस्ट में शामिल ही नहीं किया है.

सट्टे में आईपीएल के साथ दूसरी आईपीएल

आईपीएल के हर चौके और हर छक्के पर पैसों की बारिश हो रही है. एक ओर जहां खिलाडि़यों के फ्रेंचाइजी ओनर पैसों की बारिश कर रहे हैं तो दूसरी ओर सट्टे की मार्केट पैसे को दूना कर रही है. आईपीएल पर चल रहे सट्टे के खेल में अब एक और आईपीएल (इंडियन पॉलीटिकल लीग) मतलब लोकसभा इलेक्शन शामिल हो गया है. वोटर्स अपने कीमती वोट का इस्तेमाल कर अपनी लोकसभा के कैंडिडेट को जिताएंगे, इसके बाद अधिक सीट पाने वाली पार्टी विनर होगी. इसके लिए खासतौर पर यूपी की अधिकांश सीट पर बिड लग रही है. असली रिजल्ट तो क्म् मई को आएगा, मगर जिताना-हराना सटोरियों ने अभी से स्टार्ट कर दिया है.

सट्टा मार्केट से गोरखपुर गायब

क्रिकेट के साथ इलेक्शन में भी सट्टा मार्केट काफी गर्म है. सटोरियों ने हर उस सीट को अपनी लिस्ट में शामिल किया है, जहां दो से तीन कैंडिडेट के बीच टक्कर है. खासतौर पर उन सीट्स पर अधिक सट्टा लग रहा है, जहां टक्कर बीजेपी और कांग्रेस में है. सट्टा मार्केट से गोरखपुर पूरी तरह गायब है. सटोरियों का मानना है कि इस सीट पर कोई खास चेंज होने की उम्मीद नहीं है, जबकि पूर्वाचल के बांसगांव, देवरिया, डुमरियागंज, संत कबीर नगर, बस्ती, पडरौना, महराजगंज सीट पर जमकर बिड लग रहा है. वहीं लखनऊ, गाजियाबाद, फैजाबाद, आजमगढ़ और वाराणसी सीट पर भी बिड लग रही है, जबकि गोरखपुर के अलावा रायबरेली, मैनपुरी, अमेठी सीट पर बिडिंग नहीं हो रही है.

बिड सही पैसा दोगुना

आईपीएल में हर बाल, हर शॉट, हर सिक्सर और हर विकेट के साथ जीत-हार पर बिड लगती है, मगर इलेक्शन में बिडिंग का खेल आईपीएल के बिल्कुल अपोजिट चल रहा है. इलेक्शन में सिर्फ एक सट्टे का खेल चल रहा है. मतलब जीते तो पैसा दोगुना और हारे तो खाली हाथ. जिन सीट्स पर बिडिंग लगाई जा रही है, वहां जीतने वाले कैंडिडेट पर लगी बिड दोगुनी हो जाएगी. बाकी का हाथ खाली रहेगा. मतलब इलेक्शन में सट्टा बाजार में सिर्फ जीत पर बिड लग रही है. हालांकि सटोरियों ने हर सीट पर डिफरेंट कैंडिडेट का रेट डिफरेंट रखा है. मतलब मजबूत कैंडिडेट का रेट कम और थोड़ा वीक कैंडिडेट का रेट हाई, मगर बिड सिर्फ जीत के लिए लग रही है.