रांची: सिटी में एक और कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति की मौत हो गई है। गुरुवार को कोकर के खोरहाटोली निवासी एक रिटायर्ड फौजी (59 वर्षीय) की मौत हो गई। उनके कोरोना पॉजिटिव होने की खबर परिजनों द्वारा छिपाए जाने की बात सामने आई है। दरअसल, घर पर गिर कर चोटिल होने के बाद उन्हें 30 मई को ही बूटी मोड़ स्थित मेडिका हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था। वहां उनकी कोरोना जांच कराई गई थी। उसकी रिपोर्ट 2 जून को ही पॉजिटिव आ चुकी थी। हालांकि, इस दौरान उन्हें मेडिका से रिम्स के न्यूरो वार्ड में भर्ती कराया गया था।

मौत के बाद बताया इन्फेक्टेड

रिटायर्ड फौजी को 31 मई को रिम्स के न्यूरो सर्जरी आइसीयू में डॉ अनिल कुमार की देखरेख में भर्ती किया गया था। मरीज की स्थिति गंभीर थी। बचने की भी संभावना कम थी। न्यूरो के एचओडी डॉ अनिल कुमार ने बताया कि घर पर ही छत से गिरने से मरीज के माथे में चोट आई थी। इस वजह से सिर में खून का थक्का जम चुका था। ब्रेन पूरी तरह से डेड हो चुका था। मरीज की स्थिति बचने लायक नहीं थी। आइसीयू में उसका इलाज चल रहा था, स्थिति बिगड़ने के बाद गुरुवार को उसकी मौत हो गई। बाद में परिजनों ने मरीज को कोरोना संक्रमित बताया।

मेडिका ने परिजनों को दी थी सूचना

डॉ अनिल कुमार ने बताया कि मरीज की रिपोर्ट दो जून को ही पॉजिटिव आ चुकी थी। लेकिन परिजनों ने इसे पूरी तरह से छिपाए रखा। उन्होंने बताया कि मरीज 30 मई को मेडिका अस्पताल में भर्ती हुआ था। जहां से 31 मई को कोरोना जांच के लिए मरीज का सैंपल लिया गया था। इधर, सैंपल देने के बाद परिजनों ने मरीज को घर ले जाने की बात कहकर डिस्चार्ज कराया और बगैर मेडिका प्रबंधन को सूचना दिए रिम्स ले आए। डॉ अनिल के अनुसार 2 जून को ही रिपोर्ट आने के बाद मेडिका अस्पताल प्रबंधन द्वारा परिजनों को रिपोर्ट पॉजिटिव आने की सूचना दी गई, लेकिन उन्होंने इसकी सूचना रिम्स प्रबंधन से छुपा कर रखी। अगर परिजन रिम्स प्रबंधन को रिपोर्ट पॉजिटिव आने की सूचना दे देते तो डॉक्टर समेत चिकित्साकर्मी इलाज के दौरान विशेष एहतियात बरतते।

खाली कराया गया न्यूरो आईसीयू

इधर, फौजी की मौत की खबर के बाद रिम्स का न्यूरो आईसीयू पूरी तरह से खाली करा दिया गया है। इस केस के बाद रिम्स के डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मियों के ऊपर कोरोना का खतरा मंडरा रहा है। वहीं, आईसीयू में भर्ती मरीजों पर भी खतरा मंडरा रहा है। डॉ अनिल कुमार ने बताया कि मरीज का इलाज आईसीयू में चल रहा था, इस दौरान उनके अलावा करीब 6 जूनियर डॉक्टर, 5 सीनियर रेजिडेंट, तीन शिफ्टों में काम करने वाली 10 नर्सो के अलावा ट्रौली मैन और टेक्नीशियन भी मरीज के संपर्क में रहे। सभी की सूची तैयार की जा रही है। पांच दिनों के भीतर सभी की जांच कराई जाएगी। वहीं आइसीयू में भी इस दौरान जितने भी मरीज भर्ती हुए है उनकी भी जांच कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि आईसीयू को सेनिटाइज कराया जा रहा है। कुछ डॉक्टरों को होम क्वारांटाइन में भी भेजा गया है।

827 पहुंचा कोरोना पॉजिटिव आंकड़ा

झारखंड में कोरोना संक्रमण के कुल केसेज 826 हो गए हैं। गुरुवार को भी 46 नए मरीज मिले। कोडरमा में 13, गढ़वा में 10, सिमडेगा में 9, हजारीबाग में 4, खूंटी-गुमला में 3-3, रांची, पलामू, लातेहार और जमशेदपुर में 1-1 शामिल है। यह आंकड़ा आने के बाद राज्य में मरीजों की संख्या 826 हो गयी है। इससे पहले बुधवार की देर रात तक 781 मामले आ चुके थे। अब तक राज्य में कोरोना से 6 मरीजों की मौत हो चुकी है। रांची में तीन की मौत हुई है। इसमें गुरुवार को कोकर के रिटायर्ड फौजी की मौत का भी मामला शामिल है।

Posted By: Inextlive