डीजीपी भी पहुंचे थाने
कारतूस मिलते ही सनसनी फैल गयी. पुलिस ने जितेश को तुरंत डिटेन कर लिया और सचिवालय थाना लेकर आयी. चूंकि मामला सीएम की सिक्योरिटी का था सो पुलिस महकमे में हलचल मच गयी. स्थिति की गंभीरता को समझते हुए डीजीपी अभयानंद और सिटी एसपी किम भी सचिवालय थाने पहुंचकर मामले की जानकारी ली. जितेश सीवान डिस्ट्रिक्ट बोर्ड का एक्स चेयरमैन है. वह अपनी व्हाइट कलर की स्कॉर्पियो (बीआर 29 के 4500) से आया था.

लाइसेंसी था रिवाल्वर
जितेश ने पुलिस को बताया कि वह अपने नर्सिंग होम से संबंधित कंपलेन लेकर सीएम से मिलने आया था. उसके पास लाइसेंसी रिवाल्वर है, जिसे स्कॉर्पियो में ही छोड़ दिया था, लेकिन पैंट बदलने के दौरान गोली गलती से आ गयी. हालांकि पुलिस उसके बयान की पड़ताल कर रही है. रिवाल्वर और गोलियां जब्त कर ली गयी हैं. जितेश के बारे में पुलिस ने सीवान पुलिस से भी पूछताछ की है. उसके नाम से हथियार के तीन लाइसेंस हैं.