- बीएससी इन योगा की क्लासेस के लिए इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ साइंसेस में बनाया जा रहा है योगा सेंटर

- वीसी की पहल पर शुरू हुआ काम, चीफ गेस्ट प्रो. एचआर नागेन्द्र 19 अगस्त को करेंगे सेंटर का इनॉग्रेशन

kanpur@inext.co.in

KANPUR: सीएसजेएमयू के इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ साइंसेस में यूपी का पहला एकेडमिक योगा सेंटर बनाया जा रहा है. करीब 2 हजार स्क्वॉयर फिट में बनाए जा रहे योगा सेंटर में बीएससी इन योगा की क्लासेस चलेंगी.सेंटर का इनॉग्रेशन 19 अगस्त को स्वामी विवेकानंद योगा रिसर्च इंस्टीट्यूट बंगलुरू के चांसलर प्रो. एचआर नागेन्द्र करेंगे. इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ साइंसेस के हेड डॉ. प्रवीन कटियार ने बताया कि योगा सेंटर फैकल्टी ऑफ मेडिसिन की देखरेख में शुरू किया जा रहा है. सेंटर में एक साथ करीब 50 लोग योग कर सकेंगे.

दिए जा रहे हैं एडमिशन

डॉ. कटियार ने बताया कि योगा सेंटर में बीएससी इन योगा की क्लासेस शुरू होंगी. 40 सीटों पर एडमिशन दिए जा रहे हैं. इनमें से 36 सीटें लॉक हो चुकी हैं. पहली बार सीएसजेएमयू कैंपस में शुरू हो रहे बीएससी इन योगा में तीन साल एकेडमिक व 6 महीने की इंटर्नशिप होगी. स्टूडेंट्स इंटर्नशिप यूनिवर्सिटी के अंदर या फिर बाहर कहीं से भी कर सकते हैं. डॉ. प्रवीण ने बताया कि इस कोर्स में 12 ऐसी महिलाओं ने भी एडमिशन लिया है जिन्होंने करीब 15 साल पहले पढ़ाई छोड़ दी थी.

6 साल पहले पास हुआ था

बीएससी इन योगा कोर्स के लिए 6 साल पहले प्रयास शुरू किए गए थे.बोर्ड ऑफ स्टडीज की मीटिंग में 21 जुलाई 2013 को सिलेबस को ग्रीन सिग्नल मिला था. जिस पर एकेडमिक काउंसिल ने अपनी मुहर लगा दी थी. 3 दिसंबर 2013 को एग्जीक्यूटिव काउंसिल में कोर्स पास हो गया था. तब से मामला लटका हुआ था लेकिन वीसी प्रो. नीलिमा गुप्ता ने पहल करते हुए योगा सेंटर बनाने का डिसीजन लेते हुए नए सेशन से कोर्स शुरू करने का डिसिजन लिया.

----

वर्जन

सीएसजेएमयू यूपी का पहली यूनिवर्सिटी है जहां एकेडमिक योगा सेंटर बनाया जा रहा है. डिग्री लेवल पर पहली बार योगा का कोर्स बीएससी इन योगा शुरू किया जा रहा है. इंस्टीट्यूट हेल्थ साइंसेस में बनने वाले इस सेंटर का इनॉग्रेशन नेक्स्ट मंथ किया जाएगा.

प्रो. नीलिमा गुप्ता, वीसी, सीएसजेएमयू

---------------

2 हजार स्क्वॉयर फिट में बनाया जा रहा है मॉर्डन योगा सेंटर

19 अगस्त को चीफ गेस्ट करेंगे योगा सेंटर का इनॉग्रेशन

40 सीटों पर बीएससी ने योगा साइंस में दिए जा रहे हैं एडमिशन

36 सीटों पर अब तक हो चुके हैं एडमिशन, 4 सीटें खाली हैं

12 महिलाओं ने भी कोर्स में लिया एडमिशन

3 साल एकेडमिक पढ़ाई, 6 महीने की दी जाएगी इंटर्नशिप