- सीआरबी ने कुंभ के मद्देनजर प्रयागराज के बाद वाराणसी जंक्शन व मंडुआडीह का लिया जायजा

- छपरा वाया वाराणसी इलाहाबाद तक चलेगी मेमो ट्रेन

 

varanasi@inext.co.in

VARANASI : अब छपरा वाया वाराणसी इलाहाबाद तक मुंबई जैसी लोकल ट्रेन यानी मेनलाइन इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट से जल्द ही लोग सफर कर पाएंगे. यह कहना है रेलवे बोर्ड के नवनियुक्त चेयरमैन विनोद कुमार यादव का. गुरुवार को वह बनारस पहुंचे थे. कुम्भ मेला की तैयारियों को परखने के लिए वे प्रयागराज के बाद वाराणसी जंक्शन सहित मंडुआडीह स्टेशन का इंस्पेक्शन किए. कैंट रेलवे स्टेशन पर मीडिया से रूबरू सीआरबी ने बताया कि छपरा व औडि़हार से वाया वाराणसी इलाहाबाद तक का रूट इलेक्ट्रिफाइड हो गया है. ऐसे में इस रूट पर मेमू का संचालन होगा. इस ट्रेन के मेंटिनेंस के लिए औडि़हार में वर्कशॉप भी बना लिया गया है. इससे वाराणसी समेत आसपास के कई जिलों के रेल यात्रियों को बड़ी सहूलियत मिलने जा रही है. यानी अब पैंसेंजर्स और इंटरसिटी ट्रेंस बीते दिनों की बात होगी.


टेस्टिंग के बाद ट्रेन 18

सीआरबी ने बताया कि इलाहाबाद से वाराणसी के बीच इलेक्ट्रिफिकेशन का काम लगभग पूरा हो चुका है. ऐसे में इस रूट का 17 जनवरी को सीआरएस इंस्पेक्शन करेंगे. इसके बाद इस रूट पर सेमी हाईस्पीड रेलगाड़ी ट्रेन 18 का ट्रायल होगा. हालांकि इसकी डेट अभी फाइनल नहीं है. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने बताया कि प्रयागराज में लगने वाले अर्ध कुंभ के लिए टोटल 1800 ट्रेंस का संचालन होगा. बताया कि पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के कैंट, मंडुवाडीह, सिटी और सारनाथ रेलवे स्टेशन को डेवलप करने पर 100 करोड़ रुपये खर्च कर संवारा जा रहा है.

 

रोडवेज तक होगा विस्तार

 

बताया कि कैंट रेलवे स्टेशन के सेकेंड एंट्री को एक तरफ भव्यता प्रदान की जाएगी. जिसपर रेलवे ने सवा दो सौ करोड़ रुपये स्वीकृत किया है. वहीं फ‌र्स्ट एंट्री का रोडवेज स्टेशन के सामने तक विस्तार होगा. जिसमें मुख्य भवन जैसा हूबहू एक और भवन बनेगा. बताया कि विस्तार के बीच आने वाली रेलवे कॉलोनी को वहां से शिफ्ट करने का प्रस्ताव है. सीआरबी ने कैंट स्टेशन पर प्रपोज्ड एरिया में होने वाले निर्माण की डिजाइन को भी देखा. इस अवसर पर डीआरएम सतीश कुमार, एडीआरएम आरपी चतुर्वेदी, स्टेशन डायरेक्टर आनंद मोहन अन्य उपस्थित रहे.

मंडुआडीह सेकेंड एंट्री देख हुए गदगद

सीआरबी वीके यादव प्रयागराज से सीधे मंडुआडीह पहुंचे. यहां सेंकेंड एंट्री पर हो रहे डेवलपमेंट वर्क को देख उसकी सराहना की. सेकेंड एंट्री की ओर बने पांड और उसमें लगे फाउंटेन, वेटिंग हॉल, टिकट काउंटर, रिटायरिंग रूम सहित अन्य वर्क को देख प्रभावित हुए.