आज ही के दिन हुआ था ये समझौता नहीं तो प्यासा मर जाता पाकिस्तान

2018-09-19T09:13:31Z

19 सितंबर भारत आैर पाकिस्तान के इतिहास में बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि इसी दिन 1960 में दोनों देशों के बीच सिंधु जल संधि हुर्इ थी। कहा जाता है कि इस जल संधि से पाकिस्तान को बड़ी राहत मिली थी। आइए जानें इस खास दिन पर सिंधु जल संधि के बारे में खास बातें

कानपुर। भारत और पाकिस्तान के बीच सिंधु जल संधि नदियों के पानी के वितरण को लेकर हुर्इ थी। सिंधु बेसिन का पानी जम्मू-कश्मीर हिमालय पर्वत और चीनी तिब्बत से निकलते हुए पाकिस्तान में प्रवेश करता है। भारत सरकार के विदेश मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार 1947 में स्वतंत्रता के बाद, भारत और पाकिस्तान में देश के विभाजन के बाद सिंधु बेसिन के पानी को लेकर बड़े स्तर पर विवाद पैदा हुआ था।
पाक को परेशानियों का सामना करना पड़ा
विभाजन के बाद सिंधु नदी का स्रोत भारत में था और पाकिस्तान इस बारे में चिंतित था क्योंकि भारत ने पाकिस्तान की तरफ की सिंधु बेसिन की सहायक नदियों पर नियंत्रण रखा था। खास बात तो यह है कि पाकिस्तान की अधिकांश आजीविका इस नदी पर निर्भर थी। वहीं भारत ने पाक की कूटनीतिक चाल देखते हुए नदी पर नियंत्रण रखने की धमकी दी थी। इस दौरान पाकिस्तान को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा था।

संधि में विश्व बैंक ने खास भूमिका निभार्इ

 इसके बाद 19 सितंबर, 1960 को भारत आैर पाकिस्तान के बीच बीच सिंधु जल संधि हुर्इ। इसमें विश्व बैंक ने एक खास भूमिका निभार्इ थी। उसके नेतृत्व में ही भारतीय प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान ने  हस्ताक्षरित किए थे।  विश्व बैंक ने ही दोनो देशों के बीच उत्तरी भारत में बहने वाली छह नदियों सिंधु, झेलम, चिनाब, सतलुज, ब्यास और रावी के जल बटवारे को लेकर समझौता कराया था।
पूर्वी नदियों के पानी पर भारत का पूरा हक
समझौते में सिंधु, झेलम और चिनाब पश्चिमी आैर सतलुज, ब्यास और रावी पूर्वी नदियां मुख्य रूप से शामिल हुर्इ थीं। ये भारत से पाकिस्तान जाती हैं। संधि के तहत पूर्वी नदियों के पानी पर भारत को पूरा हक दिया गया। वहीं पश्चिमी नदियों के पानी के बहाव को बिना किसी रुकावट के पाकिस्तान को देना था। इस जल संधि वाले समझौते के अनुसार भारत को पाक के नियंत्रण वाली नदियों का पानी पीने की अनुमति दी गई थी।
सिंधु जल संधि काफी मजबूत मानी जाती
एेसे में तटवर्ती इलाका होने के कारण पाकिस्तान को करीब 80 प्रतिशत नदियों का पानी मिला है। यह पानी की एक बड़ी मात्रा है। खास बात तो यह है कि इस समझौते के बाद 1965, 1971 और 1999 के युद्ध होने के बावजूद दोनों देश के बीच इस जल संधि को लेकर कोर्इ मतभेद सामने नहीं आया। पाक को पानी के लिए कोर्इ परेशानी नहीं उठानी पड़ी है। यही कारण है कि 1960 की सिंधु जल संधि को काफी प्रभावी माना जाता है।
पाक पीएम इमरान खान को गाड़ियों की नीलामी में मिला उम्मीद से कम पैसा

Ind vs Pak : ये हैं 5 भारतीय खिलाड़ी जो निकालेंगे पाकिस्तान का दम

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.