ट्रंप और किम को दोस्‍त बनाने में भारतीय मूल के इन दो मंत्रियों ने निभाई बड़ी भूमिका!

Updated Date: Wed, 13 Jun 2018 03:10 PM (IST)

सिंगापुर में हुई दुनिया की शायद सबसे ऐतिहासिक शिखर वार्ता सफलतापूर्वक पूरी हो गई। डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन की इस मुलाकात और वार्ता को सफल बनाने में भारतीय मूल के 2 लोगों का अहम योगदान माना जा रहा है। कौन हैं ये?

विवियन बालाकृष्णन और के. शनमुगम ने खूब निभाया अपना रोल

सिंगापुर (पीटीआई) जी हां यही वो दो भारतीय मूल के व्यक्ति हैं, जो सिंगापुर सरकार में मंत्री हैं। अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप और नॉर्थ कोरिया के शासक किम जोंग उन की सिंगापुर में हुई इस शिखरवार्ता को लेकर सिंगापुर के फॉरेन मिनिस्टर विवियन बालाकृष्णन ने काफी पहले ही वॉशिंगटन ही नहीं बल्कि नॉर्थ कोरिया और बीजिंग का भी दौरा किया। अपने दौरों के दौरान उन्होंने अमेरिकी और कोरियन प्रशासन को भरोसा दिलाया कि इस शिखर वार्ता के दौरान लास्ट मिनट तक कोई भी गड़बड़ी नहीं होने दी जाएगी। इसके लिए उन्होनें पूरी तैयारी कर ली थी ताकि यह महत्वपूर्ण मीटिंग सफलतापूर्वक निपट जाए। विवियन के अलावा सिंगापुर के कानून और गृह मंत्री के. शनमुगम के पास शिखर वार्ता को लेकर सुरक्षा से जुड़ी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी थी। दुनिया के दो देशों के राष्ट्राध्यक्षों की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर उन्हें बहत सारी प्लानिंग और तैयारी करनी थी।


सिंगापुर है दोनों देशों का दोस्त

बता दें कि सिंगापुर दुनिया के कुछ उन चुनिंदा देशों में से है, जिसके अमेरिका और नॉर्थ कोरिया दोनों के ही साथ बेहतर राजनयिक संबंध हैं। जब किंग जोंग उन रविवार को सिंगापुर पहुंचे तो विवियन बालाकृष्णन ने ही उन्हें रिसीव किया। इस शिखरवार्ता को लेकर बालाकृष्णन ने बीबीसी से कहा था कि 70 सालों के संदेह, युद्ध और डिप्लोमेटिक फेलियर के बाद यह शिखर वार्ता हो रही है। यह कोई साधारण राजनयिक गतिविधि नहीं है। बल्कि इसमें दो बिल्कुल अलग लीडर्स एक साथ एक मंच पर आ रहे हैं।



किम जोंग उन के सारे खर्चे उठाए सिंगापुर ने

बालाकृष्णन ने यह भी बताया कि किम जोंग उन और उनके पूरे प्रतिनिधिमंडल के होटल बिल और तमाम खर्चों का भुगतान सिंगापुर सरकार ही कर रही है।


सम्मेलन के दौरान रही भारतीय व्यजंनों की धमक

स्ट्रेट्स टाइम्स ने सोमवार को प्रकाशित अपनी रिपोर्ट में बताया कि ट्रंप और किम की शिखर वार्ता के दौरान दुनिया भर से आए हुए हजारों पत्रकार और डिप्लोमेटिक पर्सनैलिटीज के लिए यहां पर तमाम इंडियन डिशेज भी सर्व की गई हैं। जिनमें पुलाव और चिकन कोरमा खास तौर पर शामिल था। यही नहीं डाउनटाउन सिंगापुर में मौजूद शिखर वार्ता के आधिकारिक मीडिया सेंटर F1 Pit Building में भी कई भारतीय व्यंजन खासतौर सर्व किए गए जिनमें पुलाव, फिश करी, चिकन करी, दाल, चिकन कोरमा और पापड़ शामिल रहा।

सिंगापुर में बैठक के बाद ट्रंप ने किम को दिखाई अपनी 'द बीस्ट' कार, ये हैं फीचर्स
ट्रंप और किम की तरह खास थी उन्हें परोसे गए पकवानों की सूची

Posted By: Chandramohan Mishra
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.