BCCI ने निकाली वेकेंसी मांगे हेड कोच बल्‍लेबाजी व गेंदबाजी कोच के लिए आवेदन

2019-07-16T17:30:53Z

आईसीसी क्रिकेट वर्ल्डकप 2019 में भारतीय टीम की हार के बाद भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड BCCI ने क्रिकेट टीम में बड़ा फेरबदल करने का फैसला किया है। दरअसल बीसीसीआई ने मंगलवार को में मेंस क्रिकेट टीम के हेड कोच और सहयोगी स्टाफ के लिए आवेदन मांगा है।

मुंबई (एएनआई)। आईसीसी क्रिकेट वर्ल्डकप 2019 में भारतीय टीम की हार के बाद भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने मंगलवार को मेंस क्रिकेट टीम के हेड कोच और अन्य सहयोगी स्टाफ के लिए आवेदन मांगा है। बता दें कि हेड कोच, बैटिंग कोच, बॉलिंग कोच, फील्डिंग कोच, फिजियोथेरेपिस्ट, स्ट्रेंथ और कंडीशनिंग कोच की नियुक्ति 5 सितंबर, 2019 से 24 नवंबर, 2021 तक होगी, जबकि एडमिनिस्ट्रेशन मैनेजर की नियुक्ति सिर्फ एक साल की अवधि के लिए होगी।

30 जुलाई तक आवेदन देने का समय

फिलहाल क्रिकेट टीम के कोचिंग स्टाफ में हेड कोच रवि शास्त्री, बॉलिंग कोच भरत अरुण, बैटिंग कोच संजय बांगर और फील्डिंग कोच आर श्रीधर हैं। इस वक्त इन सभी का कॉन्ट्रैक्ट 45 दिनों के लिए बढ़ा दिया गया है। इसके अलावा 2017 में टीम मैनेजर के रूप में नियुक्त किये गए तमिलनाडु के पूर्व कप्तान सुनील सुब्रमण्यन का कॉन्ट्रैक्ट भी एक्सटेंड कर दिया गया है। बता दें कि ट्रेनर शंकर बसु और फिजियोथेरेपिस्ट पैट्रिक फरहार्ट को छोड़कर बाकी सभी लोग अपने पद के लिए फिर से आवेदन दे सकते हैं। शंकर और पैट्रिक ने वर्ल्डकप में हार के बाद टीम को अलविदा कह दिया है। बीसीसीआई 30 जुलाई को शाम 5 बजे तक सभी योग्य उम्मीदवारों का आवेदन स्वीकार करेगा।

BCCI: Board of Control for Cricket in India (BCCI) has invited applications for positions for the senior India Men’s team — Head Coach, Batting Coach, Bowling Coach, Fielding Coach, Physiotherapist, Strength and Conditioning Coach and Administrative Manager. pic.twitter.com/dnqWWYdnaY

— ANI (@ANI) 16 July 2019


18 रन से हारी टीम इंडिया

गौरतलब है कि वर्ल्डकप 2019 के पहले सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ 18 रन से हार झेलने के बाद टीम इंडिया का सफर वहीं खत्म हो गया। विराट सेना ने वर्ल्डकप का जो सपना देखा था वह टूट गया। टीम इंडिया का इस टूर्नामेंट में अभी तक शानदार प्रदर्शन रहा था। टीम राउंड राॅबिन स्टेज में 15 अंक हासिल कर टाॅप पर थी। मगर सेमीफइनल में चौथे नंबर की टीम ने भारतीय शेरों को पराजित कर फाइनल का टिकट कटवाया।

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.