कोल्ड डायरिया और निमोनिया बना जान का दुश्मन

2014-01-05T09:04:04Z

kanpur सुबहशाम करवट बदलता मौसम बच्चों के लिए जानलेवा साबित हो रहा है पिछले तीन दिनों के अंदर कोल्ड डायरिया और निमोनिया के कारण गवर्नमेंट हॉस्पिटल में एडमिट सात बच्चों की मौत हो चुकी है वहीं तेज हवाओं के साथ बारिश ने मुश्किलें और ज्यादा बढ़ा दी हैं हैलट उर्सला और प्राइवेट हॉस्पिटल्स में डेली पहुंचने वाले पेशेंट्स का ग्राफ थ्री टाइम्स हो गया है

ये हो सकता है खतरनाक
चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉ. निखिल गुप्ता ने बताया कि इस मौसम में निमोनिया के बैक्टीरिया एक्टिव हो जाते हैं. इसलिए बंद कमरे में घर के ज्यादा लोग एक साथ न रहें. ऐसा करने से निमोनिया होने का खतरा कई गुना बढ़ जाता है. इसके अलावा दिन के वक्त घर की खिडक़ी को खोलकर रखना बेहतर होगा, जिससे घर में फैले बैक्टीरिया मर जाएंगे.

हाथ धोने से न करें परहेज
कोल्ड डायरिया और निमोनिया बना जान का दुश्मन
डॉक्टर्स के मुताबिक सर्दी के मौसम में पेरेंट्स सोचते हैं कि बच्चों को पानी के सम्पर्क में कम से कम लाना चाहिए. जिससे उन्हें ठंड से बचाया जा सके लेकिन पेरेंट्स को इस बात का भी ध्यान रखना जरूरी है कि इस मौसम में हाइजीन का ख्याल रखना ज्यादा जरूरी है. कोई भी चीज खाने से पहले और खाने के बाद बच्चों का हाथ धोने में लापरवाही न करें.
खुदी सडक़ें भी बन रही हैं परेशानी
बेदर्द मौसम और शहर में जगह-जगह खुदी हुई रोड्स कानपुराइट्स के लिए परेशानी बढ़ा रही हैं. डॉ. निखिल गुप्ता ने बताया कि सर्दी के मौसम में धूल-धक्कड़ के कारण रेसपेरेटरी सिस्टम पर असर पड़ रहा है. शॉकिंग फैक्ट ये है कि छोटे बच्चों को भी अस्थमेटिक अटैक की प्रॉब्लम सामने आ रही हैं.
निमोनिया के सिम्पटम्स
-लंग्स में इनफेक्शन और लगातार खांसी आना
-सीने में खड़खड़ाहट की आवाज आना और सांस तेज चलना
-चेहरा नीला पडऩा, पसली चलना
-वीकनेस और लगातार फीवर बने रहना
-----
कोल्ड डायरिया के लक्षण
-लूज मोशंस, भूख न लगना, कपकपी लगना
-बॉडी में पानी की कमी के साथ पैरों में एठन
-दिन भर सुस्ती बने रहना, पेट में दर्द होना
----



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.