अभियान के नाम पर सरेआम गायब हो रहीं गाय

2019-01-16T06:00:42Z

सांड और बछड़ों तक सीमित नगर निगम का अभियान

गोशाला में अपनी गाय की तलाश में भटक रहे पशु मालिक

Meerut। गोवंश को आश्रय देने के लिए नगर निगम द्वारा शुरु किए गए अभियान की आड़ में पशु तस्करों के वारे न्यारे हो रहे है। निराश्रित पशुओं को पकड़ने के लिए निगम की टीम से पहले गौ तस्कर पहुंच रहे हैं। इसी का नतीजा है कि शहर की सड़कों से गाय तेजी से गायब हो रही हैं। उधर गाय मालिक निगम के अस्थाई गोशाला पर आकर अपने गोवंश की तलाश कर रहे हैं, लेकिन उनके पशुओं का कुछ पता नही चल पा रहा है।

अभियान की आड़ में चोरी

दरअसल गत सप्ताह नगर निगम ने गोवंश की सुरक्षा के लिए सड़कों पर घूम रहे गौवंशों को पकड़ने का अभियान शुरु किया था। इसके तहत निगम ने दो अस्थाई गोशाला सूरजकुंड डिपो और अच्छरैड़ा में तैयार किए हैं। सड़क पर घूम रहे गाय, सांड और बछडों को निगम की टीम गाडि़यों से गोशाला ला रही है, लेकिन इस अभियान के साथ शहर में गो-तस्करों का गिरोह सक्रिय हो गया है। यह गिरोह निगम की टीम की तरह छोटा हाथी में सवार हो कर सड़कों, पार्क व गलियों मे घूम रही गायों को गाड़ी में डालकर ले जाता है। निगम की टीम की तरह ही गाय पकड़ने वाले लोग आस पास के लोगों से गाय मालिक को डिपो में भेजने के लिए बोल कर रवाना हो जाते हैं।

मात्र दर्जन भर गाय

निगम की टीम पर नजर डालें तो कांजी हाउस समेत दोनो अस्थाई गोशाला में पिछले पांच दिनों में एक दर्जन से भी कम गाय पहुंची हैं, जबकि 80 प्रतिशत सांड और बछडे़ गोशाला में पहुंच रहे हैं। ऐसे में निगम की टीम भी शक के दायरे में है कि केवल सांड और बछड़े को ही निगम की टीम गोशाला तक पहुंचा रही है बाकि गाय को बीच रास्ते में ही गायब कर दिया जा रहा है।

नहीं हो रही वीडियोग्राफी

निगम ने अभियान से पहले गौवंश पकड़ने के दौरान कर्मचारियों से वीडियोग्राफी करने का आदेश दिया था। लेकिन निगम का यह आदेश भी हवा हवाई है। गौ वंश पकड़ने जा रही टीम बिना वीडियाग्राफी किए पशुओं को पकड़ रही है।

निगम में लाए जाने वाले पशुओं की रोजाना गिनती कराई जा रही है। गाय को ले जाने के लिए कई लोग फर्जी मालिक बनकर भी आ रहे हैं। निगम द्वारा गौवंश की पूरी सुरक्षा की जा रही है।

अमित कुमार, अपर नगर आयुक्त

चार दिन पहले हापुड चुंगी से गाय को निगम की टीम उठा कर ले गई थी। चार दिन से निगम के सभी गोशाला में गाय की तलाश कर रहा हूं लेकिन अभी तक गाय का पता नही चल रहा है। निगम के अधिकारी भी इस बारे में कुछ नही बता रहे हैं।

सलमान, हापुड चुंगी

लालकुर्ती से निगम की टीम ने मेरी दो गायों को कब्जे में लिया था। आसपास के लोगों ने बताया कि निगम की टीम पकड़ कर ले गई है। सूरजकुंड गोशाला पहुंचा, फिर कांजी हाउस चेक किया, लेकिन कुछ पता नही चल रहा है।

उच्चन, लालकुर्ती

हापुड़ रोड से पालतू गाय को निगम की टीम ले गई थी। कांजी हाउस में गाय ले गए हैं यह पता चला था। लेकिन कांजी हाउस में पहुंचे तो गाय नही मिली।

फरमान


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.