फेंगशुई टिप्स सिसाडा से चमक सकती है आपकी किस्मत ऐसा करने से मिलेगा संतान सुख

2019-03-06T13:47:30Z

फेंगशुई का शाब्दिक अर्थ होता है हवा एवं पानी। फेंगशुई में भवन आवास कार्यालय फैक्टरी आदि के अंदर एवं बाहर के वास्तु दोषों को दूर करने के अनेक उपाय उपलब्ध हैं।

वर्तनाम युग में ज्योतिष शास्त्र, वास्तु शास्त्र, टैरो कार्ड, योग, अध्यात्म की तरह फेंगशुई को भी जनमानस ने अपनाना शुरू कर दिया है। चीनी वास्तु शास्त्र के अनुसार, ऊर्जा के प्रवाह को जल सीमा रोकती हुई वायु के प्रभाव को नष्ट कर देती है। ये दोनों प्रकार के प्राकृतिक प्रभाव वाले पदार्थ प्राणियों के लिए अत्यंत आवश्यक हैं। जल बिना मानव जीवन की संभावना नहीं हो सकती, अत: ये दोनों ऊर्जा तत्व चीनी शास्त्र में फेंगशुई के नाम से जाने जाते हैं।

फेंगशुई का शाब्दिक अर्थ होता है हवा एवं पानी। फेंगशुई में भवन, आवास, कार्यालय, फैक्टरी आदि के अंदर एवं बाहर के वास्तु दोषों को दूर करने के अनेक उपाय उपलब्ध हैं।

1. भाग्य बदलने वाला कीट सिसाडा

फेंगशुई में सिसाडा को अमर बनाने वाला माना जाता है। इसे बुरे समय या भाग्य को बदलने वाला कीट कहते हैं। फेंगशुई विशेषज्ञों के मुताबिक इसे अपने घर में आगे की दो टांगों के जरिए लाल रिबन के माध्यम से लटकाना शुभ है। सिसाडा को खुशी और युवावस्था का सिंबल माना जाता है। युवाओं को सलाह है कि वे इसे अपने कार्यस्थल के पास जरूर रखें।

2. पुराने ग्रंथों के अनुसार पूर्वी चीन में स्थित क्यूआई की रानी मृत्यु के बाद सिसाडा में तब्दील हो गई थी। इसके बाद से ही सिसाडा को 'द गर्ल क्यू आई’ के नाम से जाना जाता है। इसको घर में रखने पर स्वास्थ्य पर भी सकारात्मक असर पड़ता है। विशेषज्ञों के अनुसार कम से कम 7 सेंटीमीटर के आकार के सिसाडा को ही घर में लटकाना चाहिए।

3. मंगलकारी हाथियों का जोड़ा

फेंगशुई में हाथी संतान संबंधी एवं मंगलकारी होते हैं। वैसे देखा जाए तो हिंदू धर्म में गणेशजी का मुंह हाथी का है और वे मंगलकारी हैं, अत: जो दंपति नि:संतान की स्थिति में हैं, वे हाथियों का जोड़ा बेडरूम में बिस्तर के पास रख सकते हैं। वैसे यह जोड़ा सुख-समृद्धि का भी प्रतीक है। इसे घर में रखने से सुख-समृद्धि आती है।

फेंगशुई टिप्स: सोयी किस्मत जगा सकती है कछुए वाली अंगूठी, जानें इसे पहनने का नियम

फेंगशुई टिप्स: बैम्बू से वापस लौटेगा कांफिडेंस तो घोड़े की नाल से खुल सकती है किस्मत


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.