अमेरिका में इबोला वायरस से हुई पहली मौत

2014-10-09T12:02:39Z

इबोला वायरस का आतंक आखिरकार अमेरिका तक पहुंच ही गया पूरी दुनिया में इबोला ने जिस तरह का खौफ फैलाया है उससे सभी देश काफी चिंतित है इसी के चलते अमेरिका में इबोला वायरस से एक व्‍यक्ति की मौत भी हो गई

अमेरिका में पहली मौत
इबोला वायरस से संक्रमित लाइबेरियाई नागरिक थॉमस एरिक डंकन की टेक्सास राज्य के डलास हॉस्पिटल में बुधवार को मौत हो गई. अमेरिका में इबोला वायरस से मौत की इस पहली घटना ने स्वास्थ्य अधिकारियों को सचेत कर दिया है. हॉस्पिटल के प्रवक्ता ने बताया कि अमेरिका में इबोला से मौत का यह पहला मामला है अब हमें काफी सतर्क रहना होगा. इसके साथ ही इस वायरस से निपटना भी हमारे लिये बड़ी चुनौती साबित होगा.

अमेरिका की सतर्कता पर उठे सवाल

वेस्ट अफ्रीका से बाहर वायरस फैलने की आशंका ने अधिकारियों को चिंतित कर दिया है. 20 सितंबर को डंकन लाइबेरिया से अमेरिका आया था, तबसे उसके संपर्क में आने वाले लगभग 48 लोगों की निगरानी की जा रही है. डंकन की मौत ने वायरस से निपटने की अमेरिका की तैयारी व एयरपोर्ट प्रशासन की सतर्कता पर सवाल खड़े कर दिये. डंकन अपने परिजनों से मिलने के लिये डलास आने के बाद बीमार पड़ गया. इसके बाद 25 सितंबर को वह डलास हॉस्पिटल गया, जहां डॉक्टरों ने एंटीबायोटिक दवायें देकर उसे वापस भेज दिया. हालत बिगड़ने पर 28 तारीख को उसे फिर हॉस्पिटल लाया गया, लेकिन कई कोशिशों के बावजूद उसे बचाया नहीं जा सका.

Hindi News from World News Desk
अमेरिका पहुंचा इबोला वायरस, WHO ने कहा मानव इतिहास की सबसे घातक बीमारी

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.