WhatsApp, Twitter and TikTok के यूजर्स पर होगा एक्शन, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के खिलाफ एफआईआर दर्ज

Updated Date: Fri, 28 Feb 2020 04:10 PM (IST)

WhatsApp Twitter and TikTok टिक टॉक ट्विटर और व्हाट्सएप के खिलाफ हैदराबाद में एफआईआर दर्ज करने के बाद पुलिस जांच में जुट गई है। इस मामले में यूजर्स पर भी एक्शन लिया जा सकता है।

हैदराबाद (तेलंगाना)(एएनआई)। WhatsApp Twitter and TikTok व्हाट्सएप, ट्विटर और टिक टाॅक यूजर्स के लिए बड़ी खबर है। हैदराबाद की साइबर क्राइम पुलिस ने एस श्रीशैलम की शिकायत के आधार पर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म- व्हाट्सएप, ट्विटर और टिक टाॅक के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। एस श्रीशैलम का आरोप है कि ये सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म देश विरोधी गतिविधियों को फैलाने व धार्मिक भावनाओं को भड़काने में मदद दे रहे हैं। इस संबंध में एडिशनल डीसीपी साइबर क्राइम रघुवीर ने कहा कि एक कोर्ट के आदेश पर टिक टाॅक , ट्विटर और व्हाट्सएप के खिलाफ मामल दर्ज किया गया।

राष्ट्र विरोधी गतिविधियों और वीडियो फैलाने में मदद कर रहे

एस श्रीशैलम ने अपनी शिकायत में कहा है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म व्हाट्सएप, ट्विटर और टिक टॉक कुछ लोगों को राष्ट्र विरोधी गतिविधियों और वीडियो फैलाने की अनुमति दे रहे हैं। एस श्रीशैलम ने यह भी दावा किया कि कुछ लोग नफरत फैलाने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ भी अभियान चला रहे हैं, जिससे राष्ट्रीय अखंडता को नुकसान हो रहा है। देश में माहाैल बिगड़ रहा है। यह बेहद खतरनाक है।

उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई जो घृणा फैलाने का काम कर रहे

इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म खिलाफ भारतीय दंड संहिता और आईटी अधिनियम की संबंधित धारा के तहत मामला दर्ज होने के बाद डीसीपी ने कहा कि अगर शिकायतकर्ता के आरोप झूठे पाए जाते हैं तो हम केस को छोड़ देंगे। इसके साथ ही उन्होंने यह भी स्पष्ट किया पुलिस इन प्लेटफार्मों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर सकती क्योंकि वे भारत में बैन नहीं हैं, लेकिन उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर सकती है जो जानबूझकर इनके सहारे घृणा फैलाने का काम करते हैं।

Posted By: Shweta Mishra
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.