दो बेटियों समेत मां की मौत पर बना रहस्य

2019-02-26T06:00:40Z

- पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण नहीं हो सका स्पष्ट

- प्रिजर्व किया गया विसरा, कॉलोनी में छाया रहा सन्नाटा

आगरा। शाहगंज के पांडव नगर में मां समेत दो बेटियों की मौत ने लोगों को हिलाकर रख दिया। उनकी मौत क्यों हुई? कैसे हुई? इन सभी सवालों पर अब भी पर्दा डला हुआ है। पोस्टमार्टम से भी मौत के कारण का पता नहीं चल सका। इसके चलते विसरा प्रिजर्व किया गया है। प्रथम दृष्टया मौत गीजर गैस की घुटन से मानी जा रही है, लेकिन पुलिस समेत ये बात किसी के गले नहीं उतर रही।

तीनों के शव को हुआ पोस्टमार्टम

पांडव नगर निवासी रोहित धूपड़ की पत्नी 37 वर्षीय ऋतु धूपड़, छह वर्षीय बेटी संचिका व तीन वर्षीय बेटी कायरा की रविवार रात बाथरूम में मौत हो गई। तीनों के शव बाथरूम में पड़े मिले। सुबह पांच बजे से एक फार्मासिस्ट व दो डॉक्टरों के पैनल ने मां बेटियों के शव का पास्टमार्टम किया गया। सुबह सात बजे तक पोस्टमार्टम चलता रहा। साढ़े सात बजे शव पांडव नगर पहुंचे। शव पहुंचते ही परिवार में कोहराम मच गया। परिजन शव से लिपट पड़े। इस दौरान कॉलोनी में रहने वाले हर इंसान की आंखों में आंसू थे।

अर्थी पर रखे बेटी के गिफ्ट

घर पर तीन अर्थियां रखी गई। बेटी कायरा का 27 फरवरी को जन्मदिन था। छोटी बेटी के लिए परिवार ने पहले से ही गिफ्ट ले रखे थे, जो उसे उसके बर्थडे पर देने थे, पर ऐसा नहीं हो सका। बेटी कायरा सभी की दुलारी थी। शव को अर्थी पर रखने के बाद परिजनों ने कायरा के गिफ्ट भी उसकी अर्थी के साथ रख दिए। मौजूद खड़े लोगों की आंखों से आंसू बहने लगे।

कॉलोनी में पसरा सन्नाटा

साड़ी व्यापारी के घर पर आने-जाने वालों का तांता लगा रहा। बच्चों की दादी के आंखों से आंसू रुकने का नाम नहीं ले रहे थे। शव शमशान घाट जाने के बाद कॉलोनी में सन्नाटा पसरा था। घर में हर सदस्य चुप्पी साधे था। मुंह से शब्द नहीं निकल रहे थे, जब भी परिजन कुछ बोलने की कोशिश करते तो रोने लगते।

काश खुला होता वेंटीलेशन

सभी की निगाह उस वेंटीलेशन पर थी, जो उस समय बंद था। इसके चलते मौत होने का कयास लगाया जा रहा है। फिलहाल लोग यही मान रहे हैं कि गीजर गैस की वजह से तीनों की मौत हुई है। बार-बार परिजनों की निगाह बाथरूम पर आकर टिक जाती है। लोगों के मुंह से एक ही बात निकल रही थी कि काश उस समय वेंटीलेशन खुला होता तो इतनी बड़ी घटना नहीं होती।

पुलिस के लिए उलझ गया मामला

पोस्टमार्टम में तीनों की मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो सका। तीनों का विसरा प्रजर्व किया गया है। अब विसरा रिपोर्ट आने पर ही कारण स्पष्ट हो सकेगा। घर के जिस बाथरूम में मौत हुई, उसमें वेंटीलेशन बंद था। लेकिन एक्जॉस्ट फैन का होल था। अगर गीजर गैस होती तो वहां से निकल जाती। तो फिर मां और दोनों बेटियों की मौत कैसे हुई। इस बात पर बड़ा सवाल है। पुलिस भी तीन मौतों में उलझ गई है। एसपी सिटी प्रशांत वर्मा के मुताबिक अभी कुछ भी नहीं कहा जा सकता कि मौत कैसे हुई। गीजर गैस से भी मौत नहीं मानी जा सकती, चूंकि वहां पर एक्जॉस्ट की जगह भी थी।

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.