लोग गुस्सा दिलाते तो 'बाबा' से मिलता था कत्ल करने का आदेश

2019-01-26T06:00:33Z

04

लोगों को अकेले कीडगंज थाना क्षेत्र में उतारा मौत के घाट

01

व्यक्ति का सोते समय कोतवाली क्षेत्र में कर दिया कत्ल

04

व्यक्तियों को अलग-अलग जगह दारागंज एरिया में उतारा मौत के घाट

भिखारी को पकड़ कर पुलिस ने किया नौ हत्याओं का खुलासा

सभी हत्याएं सड़क किनारे रात में हुई थीं, किसी की भी पहचान नहीं हुई थी

खुद को साई भक्त बताता है कातिल, ऑपरेशन किलर हंट में चढ़ा पुलिस के हत्थे

PRAYAGRAJ: मैं तो भीख मांगकर पेट पालता था। लोग मुझे छेड़ते थे और मेरा मजाक उड़ाते थे। इस पर मुझे गुस्सा आता था। पारा चढ़ने पर बाबा सामने आकर खड़े हो ाजते थे। आदेश देते थे कत्ल कर दो। इसके बाद मैं उन्हें मौत के घाट उतारकर चला जाता था। इस साइको किलर के हवाले से पुलिस ने शुक्रवार को नौ हत्याओं का खुलासा किया है। इन घटनाओं में मारे गये सभी लोग लावारिस थे। जिस हत्यारे को पुलिस ने आज किलर बताकर चालान किया उसे दारागंज पुलिस पहले ही उठाकर पूछताछ के बाद छोड़ चुकी थी।

50 टीमें लगायी गयी थीं खुलासे को

पुलिस लाइंस में मीडिया के सामने कथित हत्यारे को पेश करते हुए एसएसपी नितिन तिवारी ने बताया कि लगातार सड़क के किनारे हो रही हत्याओं का राज खोलने के लिए दो-दो पुलिसकर्मियों की कुल करीब 50 टीमें खुलासा करने के लिए लगायी गयी थीं। इसी में से एक टीम ने शुक्रवार को कीडगंज क्षेत्र कुंभ मेला एरिया से कलुवा पटेल उर्फ साईं बाबा उर्फ सुभाष पुत्र उदयराज पटेल निवासी बसेहरा थाना लालपुर को गिरफ्तार किया। एसएसपी ने मीडिया को बताया कि अब तक शहर व मेला क्षेत्र में जितने भी शव मिले सब के गले व चेहरे पर धारदार हथियार से वार के निशान थे। इससे शक हुआ कि सभी कत्ल का प्रकार एक जैसा है तो कातिल भी एक ही होगा। कीडगंज व दारागंज एरिया के कई सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए। फुटेज में दो जगह घटनास्थल के पास कलुवा की मौजूदगी नजर आई। इसी के आधार पर उसकी गिरफ्तारी की गई तो उसने अपने गुनाह को कबूल किया।

कलुआ के शिकार बन गये

चार जुलाई 2018

कीडगंज एरिया स्थित बाई का बाग दुर्गा पूजा पार्क में सोते रहे नीरज व अशोक कुमार की धारदार हथियार से हत्या कर दी गयी थी। कत्ल की वजह यह थी कि दोनों ने उसे किसी बात को लेकर टोक दिया था।

27 नवंबर 2018

दारागंज के परेड क्षेत्र में सो रहे एक व्यक्ति को भी धारदार हथियार से मौत के घाट उतार दिया गया था। काफी कोशिश के बाद भी उसकी पहचान नहीं हो सकी थी। मृतक से भी यह बाबा टकराया था।

24 दिसंबर 2018

कोतवाली क्षेत्र के कोठा पार्चा डी मार्ग पर मजदूर शिवा प्रसाद की हत्या कर दी गयी थी। उस पर भी धारदार हथियार से वार किया गया था। उसका शव भी सड़क किनारे लावारिश मिला था।

एक जनवरी 2019

कीडगंज क्षेत्र में त्रिवेणी दर्शन होटल के पास बसंत केसरवानी की बॉडी मिली थी। उन्हें भी धारदार हथियार से मौत के घाट उतारा गया था। यहां भी प्रथम दृष्टया हत्या का कोई कारण सामने नहीं आया था।

13 जनवरी 2019

कीडगंज एरिया में स्थित उदासीन अखाड़ा के पास बंडा नामक व्यक्ति को धारदार हथियार से मारकर मौत के घाट उतार दिया गया।

19 जनवरी 2019

दारागंज क्षेत्र के शास्त्री पुल से करीब डेढ़ सौ मीटर पहले फुटपाथ पर सो रहे तीन व्यक्तियों पर कातिलाना हमला कर दिया। इसमें दो लोगों की मौत हो गई, गंभीर हालत में तीसरे का उपचार चल रहा है।

23 जनवरी 2019

कुंभ मेला अखाड़ा थाना क्षेत्र में एक व्यक्ति को मौत के घाट उतार दिया। दो लोग उसके वार से गंभीर रूप से घायल हो गए।

निशाने पर थे दो बाबा

पुलिस के हत्थे चढ़े सीरियल किलर कलुवा के निशाने पर इस बार मेला में आए दो बाबा था। एसएसपी की पूछताछ में उसने बताया कि भीख मांगते समय दो बाबाओं ने उसे झिड़क कर भगा दिया था। बाबाओं की झिड़की को भी वे हमेशा की तरह दिल पर ले बैठा। पुलिस को उसने बताया कि वे बाबाओं को ठिकाने लगाने के लिए मौके की ताक में था।

साइको किलर लगता है। पूछताछ में उसने कारण के साथ हत्या में शामिल होना भी कुबूल कर लिया है। उसके पास से नकदी के साथ धारदार हथियार बरामद हुआ है। उसे जेल भेजा जा रहा है।

नितिन तिवारी

एसएसपी, प्रयागराज


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.