झारखंड का अपना 'Kolaveri Di'

2012-01-04T11:54:39Z

The Nagpuri version of Kolaveri Di is making big news in the rural environs of Jharkhand Sung by popular folk singer Mitali Ghosh and produced by her husband Bullu Ghosh the song Kaale Moke Khis Lage is being heard and enjoyed in village functions and small shops across the South Chhotanagpur zone

काले मोके खीस लागे कोलावेरी डी, आज कल कर छोड़ा-छोड़ी गाय चलैना कोलावेरी डी... यह अपनी नागपुरी में वाय दिस कोलावेरी डी? गाने की तर्ज पर आने वाला गाना है. झारखंड की फेमस सिंगर मिताली घोष ने इस गाने को खुद ही लिखा और रिकॉर्ड किया है.इसकी आडियो और वीडियो सीडी जल्द ही मॉर्केट में लाने की तैयारी चल रही है.
मिताली घोष के पति बुल्लू घोष ने बताया कि आजकल हर जगह वाय दिस कोलावेरी डी... का जादू छाया हुआ है. इसी को देखते हुए मिताली के मन में ख्याल आया कि क्यों न इस पॉपुलर गाने को नागपुरी में बनाया जाए. इसी के बाद नागपुरी में यह गाना बन पाया है.

जिस तरह तमिल फिल्म मूंदरु (थ्री)के वाय दिस कोलावेरी कोलावेरी डी... गाने के बोल और स्वर धनुष ने दिया है उसी प्रकार अपने नागपुरी च्काले मोके खिस लागे कोलावेरी डी च् को मिताली ने बोल और स्वर दिया है. लेकिन नागपुरी का जो गाना बना है वह कोलावेरी डी की हूबहू नकल नहीं है बल्कि सिर्फ कुछ वर्ड ही उससे लिए गए हैं. मूल गाना और धुन असली नागपुरी है. मिताली ने बताया कि यह नागपुरी गाना लोगों को काफी पसंद आएगा.
बैलेंस कर-बैलेंस कर, दिल के तोर बैलेंस कर. इल-इलू कहबे न, इ बतिया के तोर साइलेंस कर. दिल मोर कच-कचाय देले... मोके कनफुज कर देबे... यहा साल 1991-92 में मिताली द्वारा गाया हुआ पॉपुलर गाना था, जो पहली बार नागपुरी भाषा में इंग्लिश  और साउथ इंडियन लैंग्वेज को मिलाकर बनाया गया.

मिताली ने बताया कि जब यह गाना रिकॉर्ड होकर मॉर्केट में आया तो कुछ लोगों ने कहा कि मिताली नागपुरी गाने को बिगाड़ रही हैं, लेकिन जब यह गाना सुपर-डुपर हिट हुआ तो लोगों की जुबान बंद हो गई. चूंकि उस समय मीडिया और पॉपुलरिटी के इतने अधिक साधन नहीं थे इसलिए यह गाना सिर्फ झारखंड तक सीमित रहा गया. आज का टाइम होता तो यह गाना भी वाय दिस कोलावेरी डी? की तरह देशभर में लोकप्रिय होता.


मिताली ने कहा कि नागपुरी गाने में पहले भी दूसरी भाषाओं के पॉपुलर बोल को लेकर गाने बनते रहे हैं. इसलिए काले मोके खिस लागे कोलोवेरी डी... का प्रयोग मेरे लिए नया नहीं है. उम्मीद है कि यह गाना भी लोगों को पसंद आएगा.


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.