अमेरिका पाकिस्तानी के अल्पसंख्यक समूहों ने व्हाइट हाउस के सामने किया प्रदर्शन लगाई मदद की गुहार

2019-04-08T16:07:30Z

पाकिस्तान के अल्पसंख्यक समूहों ने अमेरिका में मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने व्हाइट हाउस के सामने प्रदर्शन किया और अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मदद की गुहार लगाई है।

वाशिंगटन (पीटीआई)। पाकिस्तान में रहने वाले अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने अपने देश की सरकार के खिलाफ अमेरिका में मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने सोमवार को अमेरिका के राष्ट्रपति भवन व्हाइट हाउस के सामने शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया और बताया कि पाकिस्तान में उन्हें बरसंहार का सामना करना पड़ रहा है। अल्पसंख्यक समुदाय ने पाकिस्तान में आजादी का अधिकार हासिल करने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मदद की गुहार लगाई। उन्होंने आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ पार्टी ने पाकिस्तान में उनके सफाये के लिए अल्पसंख्यकों पहचान का अभियान चलाया है। इस विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व करने वाले आयोजक मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) के रेहान इबादत ने कहा, 'अंतरराष्ट्रीय समुदाय को हमारी दुर्दशा को समझना चाहिए और उसका कर्तव्य बनता है कि वह हमें स्वतंत्रता का अधिकार दिलाने में हमारी मदद करे।'
आतंकियों को पनाह देता है पाकिस्तान
विरोध प्रदर्शन में शामिल लोगों में से एक एक ने कहा, 'पाकिस्तान में जुल्म के शिकार अल्पसंख्यक समुदायों का प्रतिनिधित्व करने के लिए हम सामूहिक प्रयास के तौर पर यहां एकत्र हुए। हम मुहाजिर, बलूच, गिलगिट-बाल्टिस्तान, पश्तून और अन्य अल्पसंख्यक समुदायों के लोग अपने स्वतंत्रता के अधिकार के लिए पृथक क्षेत्र की मांग करते हैं।' बता दें कि प्रदर्शनकारियों के हाथ में पोस्टर और बैनर भी थे, जिसमें पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचार का जिक्र था। अमेरिका में बलूच नेशनल मूवमेंट का प्रतिनिधित्व करने वाले नबी बख्श ने आरोप लगाया कि पाकिस्तान आतंकवाद को स्पांसर करता है। पाकिस्तान ना सिर्फ आतंकवादियों का केंद्र है बल्कि पड़ोसी देशों भारत और अफगानिस्तान में हमले करने वाले आतंकी संगठनों का पनाहगाह भी है।

पाकिस्तान की बढ़ी मुश्किलें, IMF के बेलआउट पैकेज को लेकर अमेरिकी सांसदों ने किया विरोध

बाॅलीवुड साॅन्ग गाने पर पाकिस्तानी क्रिकेटर को PCB ने लगाई फटकार

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.