टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी ने हाथरस कांड से की सीता अपहरण की तुलना, केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने साधा निशाना

पश्चिम बंगाल में टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी ने सीता जी को लेकर विवादित बयान दिया है। उनके इस बयान को लेकर बीजेपी ने उन्हें घेरने के साथ कई सवाल खड़े कर दिए हैं। यहां जानें क्या है पूरा मामला...

Updated Date: Mon, 11 Jan 2021 11:17 AM (IST)

नई दिल्ली (एएनआई)। उत्तर प्रदेश के हाथरस की सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता की तुलना सीता जी से करने के चलते टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी की विवादाें में घिर गए हैं। केंद्रीय संस्कृति और पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने उनके इस बयान पर सोमवार को कहा कि 'असामाजिक तत्व' जो सार्वजनिक नेता बन गए हैं। नियंत्रण से बाहर हैं, और उन्हें नियंत्रित करने के लिए कुछ किया जाना चाहिए। न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए, भाजपा नेता ने कहा कि उनकी पार्टी पश्चिम बंगाल में आगामी विधानसभा चुनाव जीतने जा रही है, और विधानसभा में 200 से अधिक सीटें सुरक्षित हैं।टीएमसी नेता हमारी संस्थाओं और आदर्शों की मर्यादा को नुकसान पहुंचा रहे
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि टीएमसी के नेता हमारी संस्थाओं और आदर्शों की मर्यादा को नुकसान पहुंचा रहे हैं। ये असामाजिक तत्व भले ही नेता बन गए हों, लेकिन उनकी भाषा सभी सीमाओं को पार कर रही है। उनमें यह उत्सुकता उनके ज्ञान का परिणाम है कि लोग देने को तैयार हैं। मंत्री ने कहा, मैंने हाल ही में उत्तर बंगाल का दौरा किया और वहां के लोग टीएमसी सरकार से नाराज और असंतुष्ट हैं। प्रहलाद पटेल, जो हाल ही में उत्तर बंगाल की 3-दिवसीय यात्रा पर गए थे, ने कहा कि दार्जिलिंग के लोगों के लिए भाजपा एकमात्र आशा है।?अगर तुम्हारे चेलों ने मेर हरण किया होता, तो मेरा हाल भी हथरास जैसा होताइसके साथ ही उन्होंने कहा कि टीएमसी को कोई भी सलाह देने से कोई फायदा नहीं होगा। लोग खुद ही उन्हें जवाब देंगे। मंत्री ने कहा कि पश्चिम बंगाल में आगामी विधानसभा चुनावों के लिए केंद्रीय मंत्री अमित शाह की भविष्यवाणी 100 प्रतिशत सही होगी और भाजपा 200 से अधिक सीटें जीतेगी। बता दें कि पश्चिम बंगाल में एक रैली में जनता को संबोधित करते हुए, टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी ने सीता ने राम से कहा मेरा सौभाग्य था कि रावण ने मेरा हरण किया, अगर तुम्हारे चेलों ने किया होता, तो मेरा हाल भी हथरास जैसा होता।

Posted By: Shweta Mishra
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.