हर माह 35 करोड़ लोगों के खाते में आएंगे 3000 रुपये जानें क्या है PMSYM पेंशन स्कीम

2019-03-06T09:27:41Z

केंद्र सरकार ने मंगलवार को गरीबों के हित में प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पीएमएसवाईएम योजना की शुरुआत की जिसके बाद राजधानी में भी इसका लोकार्पण किया गया।

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW: लोकभवन में आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि यह मेहनतकश लोगों के लिए सौगात है। उम्र भर पसीने की कमाई खाने वालों में से कइयों के जीवन में एक ऐसा भी दौर आता है जब वह रोजमर्रा की जरूरतों के लिए दूसरों के मोहताज हो जाते हैं। पीएम-एसवाईएम योजना के लागू होने पर ऐसा नहीं होगा। अगर वे योजना से आच्छादित हैं तो 60 वर्ष की उम्र पूरी करने पर हर माह तय समय पर उनके खाते में 3000 रुपये बतौर पेंशन आ जाएंगे। ऐसी योजना वाला भारत दुनिया का पहला देश होगा।

विपक्ष को पसंद नहीं गरीबों की खुशहाली

वहीं डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने अपने संबोधन में कहा कि गरीबों की खुशहाली विपक्ष को पसंद नहीं है। दरअसल इनका गरीब हित सिर्फ नारों तक ही सीमित है। ये चाहते हैं कि गरीब इनका वोट बैंक बना रहे। ऐसे ही लोग सर्जिकल स्ट्राइक पर भी सवाल उठाते हैं। इनकी आलोचनाओं के इतर गरीबी, बेरोजगारी और आतंकवाद के खिलाफ मोदी और योगी सरकार की जंग जारी रहेगी। वहीं श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री गरीबों के इस सपने का साकार कर रहे हैं। बाकियों ने तो गरीबों की खिल्ली ही उड़ायी। कहा कि इस योजना से जुडऩे के लिए सिर्फ आधार कार्ड और बैंक पास बुक की जरूरत होगी। पात्रता के बारे में खुद ही घोषणा करनी होगी। कार्यक्रम में राज्य मंत्री मनोहर लाल कोरी, मुख्य सचिव डॉ।अनूप चंद्र पांडेय, प्रमुख सचिव सुरेश चंद्रा और अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

फैक्ट फाइल

- 3.5 करोड़ लोग प्रदेश के आएंगे योजना के दायरे में
- 55 से 200 रुपये के बीच देना होगा हर माह अंशदान
- 3000 हजार रुपये पेंशन मिलेगी 60 साल के बाद
- 18 से 40 साल के बीच की उम्र वाले योजना के पात्र

डेढ़ घंटे कानपुर में रहेंगे पीएम, जमीन से आसमान तक स्पेशल सिक्योरिटी

अब एके-203 के नाम से जानी जाएगी अमेठी, पीएम ने कांग्रेस के गढ़ में दी करोड़ों की साैगातें


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.