फेसबुक पर मोबाइल निर्माता कंपनियों से यूजर्स की निजी जानकारी शेयर करने का आरोप

2018-06-04T13:34:42Z

फेसबुक स्मार्टफोन निर्माताओं को यूजर्स की सभी डेटा को एक्सेस करने की इजाजत देता है। एक रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया गया है।

एप्पल और सैमसंग सहित 60 स्मार्टफोन निर्माताओं को देता है इजाजत
न्यूयॉर्क (आईएएनएस)। फेसबुक की समस्या एक बार फिर बढ़ती हुई नजर आ रही है। दरअसल, न्यूयॉर्क टाइम्स ने हाल ही में एक रिपोर्ट जारी की है, जिसमे बताया है कि फेसबुक कैसे एप्पल और सैमसंग सहित 60 स्मार्टफोन निर्माताओं को यूजर्स और उनके दोस्तों की पर्सनल जानकारी एक्सेस करने की इजाजत देता है। कंपनी के अधिकारियों का हवाला देते हुए रिपोर्ट में कहा गया है कि फेसबुक एप्स स्मार्टफोन में व्यापक रूप से उपलब्ध होने से पहले ही कंपनी स्मार्टफोन निर्माताओं के साथ डेटा-शेयरिंग की साझेदारी कर चुकी थी। उन्होंने बताया कि यह सौदे इस वक्त भी प्रभावी हैं।
गोपनीयता का उल्लंघन
द टाइम्स ने कहा कि यह सौदे अमरीकी संघीय व्यापार आयोग (एफटीसी) की पॉलिसियों का उल्लंघन करते हैं। हालांकि, फेसबुक के अधिकारियों ने इस बात से साफ इनकार कर दिया है कि उन्होंने अपनी गोपनीयता नीतियों और एफटीसी समझौते का उल्लंघन किया है। उन्होंने कहा, 'साझेदारी उन अनुबंधों द्वारा संचालित होती हैं, जिसके तहत निर्माताओं को सिमित डेटा का उपयोग करने की इजाजत दी जाती है, लेकिन उसमें यूजर्स के व्यक्तिगत डेटा शामिल नहीं है। इसके अलावा उन्होंने यह भी बताया कि अभी तक ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया है, जिसमें यूजर्स के व्यक्तिगत डेटा का गलत इस्तेमाल किया गया हो।  
कैंब्रिज एनालिटिका के बाद यह मामला
बता दें कि फेसबुक पर यह आरोप ऐसे समय में लगा है जब वह कैंब्रिज एनालिटिका डेटा लीक मामले के आरोपों से भी जूझ रहा है। कैंब्रिज एनालिटका पर फेसबुक से करोड़ो लोगों का डेटा हासिल कर उसे बेचने के आरोप लगे थे। आरोपों के मुताबिक कैंब्रिज ने बाद में इस डेटा को राजनीतिक दलों को मुहैया कराया ताकि चुनावों में लाभ लिया जा सके। मामला उजागर होने और वैश्विक दबाव बनने के बाद फेसबुक को भी अपनी प्राइवेसी पॉलिसी में बदलाव करने की घोषणा करनी पड़ी ताकि कोई तीसरी कंपनी आसानी से फेसबुक से डेटा हासिल न कर सके।

फर्जी खबरें रोकने के लिए यह देश फेसबुक पर लगा रहा एक महीने का प्रतिबंध

फेसबुक-टि्वटर पर अब नहीं चल पाएंगे फर्जी राजनैतिक विज्ञापन! आ गए हैं ये नए रूल


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.