Republic Day Parade 2020: राजपथ पर 90 मिनट की परेड में यह सब देखने को मिलेगा

2020-01-26T08:30:25Z

रविवार को राजपथ पर 71 वें गणतंत्र दिवस परेड के दौरान भारत अपनी सैन्य शक्ति सांस्कृतिक विविधता सामाजिक और आर्थिक प्रगति का प्रदर्शन करेगा। 90 मिनट तक चलने वाले गणतंत्र दिवस परेड समारोह की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इंडिया गेट के पास राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी पहली बार अमर जवान ज्योति की जगह राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर माल्यार्पण कर शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे।

नई दिल्ली (एएनआई)। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद इस साल के मुख्य अतिथि ब्राजील के राष्ट्रपति जायर मेसियस बोल्सनारो की मेजबानी करेंगे। परंपरा के अनुसार, राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा, राष्ट्रगान होगा व 21 तोपों की सलामी दी जाएगी। परेड की शुरुआत राष्ट्रपति कोविंद सलामी लेने के साथ करेंगे। परेड की कमान परेड कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल असित मिस्त्री, जनरल ऑफिसर कमांडिंग, हेडक्वार्टर दिल्ली एरिया संभालेंगे। मेजर जनरल आलोक काकेर, चीफ ऑफ स्टाफ, दिल्ली एरिया, परेड सेकंड-इन-कमांड होंगे।
सर्वोच्च वीरता पुरस्कारों के विजेताओं का सम्‍मान
बाद में, सर्वोच्च वीरता पुरस्कारों के विजेताओं को - परमवीर चक्र और अशोक चक्र से सम्मानित किया जाएगा। परेड के दौरान, ग्वालियर लांसर्स की वर्दी में पहली टुकड़ी कैप्टन दीपांशु श्योराण के नेतृत्व में 61 कैवेलरी होगी। 61 कैवेलरी दुनिया में एकमात्र सक्रिय सेवारत घुड़सवार घुड़सवार रेजिमेंट है। भारतीय सेना का प्रतिनिधित्व 61 घुड़सवारों के घुड़सवार स्तंभ, आठ मशीनीकृत स्तंभों, छह मार्चिंग टुकड़ियों और रुद्र और ध्रुव उन्नत प्रकाश हेलीकाप्टरों द्वारा किया जाएगा।
परेड के मुख्‍य आकर्षण
भारतीय सेना के स्वदेशी रूप से विकसित मुख्य युद्धक टैंक, टी -90 भीष्म, इन्फैंट्री कॉम्बैट व्हीकल (ICV) बॉलवे मशीन पिकेट (BMP) -II, K-9 VAJRA-T, धनुष गन सिस्टम, नव-प्रवर्तित पांच-मीटर शॉर्ट स्पैन मशीनीकृत स्तंभों में ब्रिजिंग सिस्टम, सर्वत्र ब्रिज सिस्टम, ट्रांसपोर्टेबल सैटेलाइट टर्मिनल और आकाश हथियार प्रणाली मुख्य आकर्षण होंगे।
पहली बार सेना के वायु रक्षा दल की टुकड़ी करेगी मार्च
सेना की अन्य मार्चिंग टुकड़ियों में पैराशूट रेजिमेंट, ग्रेनेडियर्स रेजिमेंट, सिख लाइट इन्फैंट्री रेजिमेंट, कुमाऊं रेजिमेंट और कोर ऑफ़ सिग्नल शामिल होंगे। गणतंत्र दिवस पर पहली बार सेना के वायु रक्षा दल की टुकड़ी मार्च में शामिल होगी। इसके बाद द कंबाइंड बैंड ऑफ बंगाल इंजीनियर्स ग्रुप और सेंटर, गार्ड्स ऑफ गार्ड्स ट्रेनिंग सेंटर, 3 इलेक्ट्रॉनिक्स और मैकेनिकल इंजीनियर्स सेंटर और मद्रास रेजिमेंटल सेंटर होंगे।
दिखेगी नौसेना की ताकत
नौसेना की टुकड़ी में लेफ्टिनेंट जितिन मलकट के नेतृत्व में 144 युवा नाविक शामिल होंगे जो आकस्मिक कमांडर हैं। इसके बाद नौसेना की झांकी का शीर्षक 'इंडियन नेवी - साइलेंट, स्ट्रॉन्ग, और स्विफ्ट' होगा। झांकी का अगला भाग तीनों आयामों में नौसेना की ताकत और मारक क्षमता को प्रदर्शित करता है, जबकि अगला भाग राष्ट्र-निर्माण के लिए नौसेना की प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करता है।
वायु सेना की झांकी में राफेल विमान
वायु सेना की टुकड़ी, जिसमें 144 वायु योद्धा शामिल होंगे, का नेतृत्व फ्लाइट लेफ्टिनेंट श्रीकांत शर्मा करेंगे। वायु सेना की झांकी में राफेल विमान, तेजस विमान, लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर, आकाश मिसाइल सिस्टम और एस्ट्रा मिसाइलों के स्केल-डाउन मॉडल दिखाए गए हैं। सैनिकों की नि: स्वार्थ सेवा, राष्ट्र के लिए नि: स्वार्थ सेवा के लिए सम्मान और सम्मान का प्रतीक है।
यह भी होंगे शामिल
इंडियन कोस्ट गार्ड मार्चिंग टुकड़ी का नेतृत्व डिप्टी कमांडेंट गौरव शर्मा करेंगे। भारतीय तटरक्षक बल का आदर्श वाक्य 'वयम रक्षाम' है जिसका अर्थ है 'वी प्रोटेक्ट'। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF), भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP), केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF), दिल्ली पुलिस और सीमा सुरक्षा बल (BSF) के प्रतियोगी भी सलामी मंच पर मार्च पास्ट करेंगे।
एनसीसी व एनएसएस की टुकड़ी भी करेगी मार्च
नेशनल कैडेट कॉर्प्स (NCC) बॉयज मार्चिंग टुकड़ी का नेतृत्व कमांडर जूनियर अंडर-ऑफिसर चरणदीप सिंह भदौरिया, NCC निदेशालय उत्तर प्रदेश करेंगे, जबकि लड़कियों की टुकड़ी का नेतृत्व सीनियर अंडर-ऑफिसर वृषमा हेगड़े, NCC निदेशालय, कर्नाटक और गोवा करेंगे। राष्ट्रीय सेवा योजना (NSS) की टुकड़ी में 148 स्वयंसेवक शामिल होंगे, जो परेड में भाग लेंगे। भारतीय सेना के बड़े पैमाने पर पाइप और ड्रम बैंड भी प्रदर्शन पर होंगे।
झांकियों में डीआरडीओ का मिशन शक्‍ति
रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) द्वारा विकसित एंटी-सैटेलाइट मिशन शक्ति, सेना के युद्धक टैंक भीष्म, पैदल सेना से लड़ने वाले वाहनों, वायु सेना के नए शामिल किए गए चिनूक और अपाचे हेलीकॉप्टरों, और आकाश और एस्ट्रा मिसाइलों और नौसेना के कौशल को दर्शाती झांकी परेड के आकर्षणों में होगी।
बीस राज्‍यों की झांकी
राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से बीस झांकी - 16 और विभिन्न मंत्रालयों से छह, देश की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का चित्रण और आर्थिक प्रगति राजपथ को दर्शाएंगे। सरकारी विभाग की झांकी स्टार्टअप इंडिया, प्रधानमंत्री जन धन योजना और जल जीवन मिशन जैसी योजनाओं के तहत लाए गए सुधारों को प्रदर्शित करेगी। स्कूली बच्चे नृत्य और संगीत के माध्यम से योग और आध्यात्मिक मूल्यों के सदियों पुराने संदेश से अवगत कराएंगे और भारतीय वायु सेना के विमान वायु-शक्ति का प्रदर्शन करते हुए आकाश में गरजेंगे। प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार के गौरवशाली विजेता जीपों में पहुंचेंगे। इसके बाद 600 से अधिक बाल प्रतिभागी होंगे।
पहली बार महिला बाइकर्स करेंगी स्‍टंट
पहली बार, CRPF की महिला बाइकर्स एक साहसी स्टंट का प्रदर्शन करेंगी। ग्रैंड फिनाले और परेड के सबसे उत्सुकता से प्रतीक्षित खंड, फ्लाईपास्ट में तीन एएलएच हेलीकॉप्टर द्वारा 'त्रिशूल' का निर्माण शामिल होगा। यह पहली बार है कि गणतंत्र दिवस परेड में 'त्रि-सेवा गठन' हिस्सा ले रहा है। इसके बाद चिनूक हेलीकॉप्टरों के 'विक' गठन का उपयोग किया जाएगा, जिसका उपयोग विभिन्न स्थानों पर दूरदराज के स्थानों के लिए भार उठाने के लिए किया जाता है।
अपाचे व जगुआर का दिखेगी जलवा
अपाचे हेलिकॉप्टर, डोर्नियर विमान, सी -130 जे सुपर हरक्यूलिस विमान, नेत्रा, एक एयरबोर्न अर्ली वार्निंग एंड कंट्रोल सिस्टम विमान और 'ग्लोब' का गठन जिसमें तीन सी -17 ग्लोबमास्टर शामिल हैं, कुछ अन्य मुख्य आकर्षण हैं। पांच जगुआर डीप पैठ स्ट्राइक एयरक्राफ्ट और पांच मिग -29 के उन्नयन 'एरोहेड' में एयर श्रेष्ठता सेनानियों ने सु -30 एमकेआई द्वारा शानदार त्रिशूल युद्धाभ्यास से पहले दर्शकों को रोमांचित किया। परेड का समापन सु -30 एमकेआई के साथ आकाश को लुभावनी 'वर्टिकल चार्ली' एरोबेटिक पैंतरेबाज़ी के साथ किया जाएगा। समारोह का समापन राष्ट्रगान और गुब्बारों के विमोचन के साथ होगा।


Posted By: Inextlive Desk

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.