रिषभ पंत ने की गिलक्रिस्ट के रिकाॅर्ड की बराबरी, तीन देशों में शतक लगाने वाले दूसरे विकेटकीपर बल्लेबाज

भारत के बाएं हाथ के बल्लेबाज रिषभ पंत ने शुक्रवार को शानदार शतक जड़कर पूर्व ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज एडम गिलक्रिस्ट की बराबरी कर ली। दुनिया में अब दो ही विकेटकीपर बल्लेबाज हैं जिनके नाम ये बड़ा रिकाॅर्ड दर्ज है। पंत अब इस लिस्ट में अपनी जगह बना चुके हैं।

Updated Date: Sat, 06 Mar 2021 12:08 PM (IST)

कानपुर (इंटरनेट डेस्क)। भारत बनाम इंग्लैंड के बीच अहमदाबाद में खेले जा रहे चौथे टेस्ट में रिषभ पंत ने शानदार शतक जड़ा। पंत ने 101 रनों की पारी खेली। इस इनिंग के साथ ही रिषभ ने अपने आइडल एडम गिलक्रिस्ट के वर्ल्ड रिकाॅर्ड की बराबरी कर ली है। पहले यह रिकाॅर्ड सिर्फ गिली के नाम था, मगर अब पंत भी उनके बराबर पहुंच गए। पंत और गिलक्रिस्ट दुनिया के दो विकेटकीपर बल्लेबाज हैं, जिन्होंने तीन देशों में टेस्ट शतक लगाया है।

पंत ने की गिलक्रिस्ट के रिकाॅर्ड की बराबरी की
क्रिकइन्फो पर उपलब्ध डेटा के मुताबिक, गिलक्रिस्ट ने भारत, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट शतक लगाया है। वहीं अब पंत भी यह कारनामा कर चुके हैं। मोटेरा टेस्ट से पहले पंत के नाम इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलियाई जमीं पर टेस्ट शतक दर्ज था मगर अहमदाबाद में पहली पारी में शतकीय पारी खेलते ही रिषभ के नाम भारतीय जमीं पर भी टेस्ट शतक हो गया। इस तरह पंत ने गिलक्रिस्ट के रिकाॅर्ड की बराबरी की और वह भी तीन देशों (भारत, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया) में टेस्ट शतक लगाने वाले दूसरे विकेटकीपर बल्लेबाज बन गए।

गिलक्रिस्ट ने की पंत की तारीफ
पंत की उपयोगी पारी देखकर गिलक्रिस्ट ने ट्वीट कर उनकी तारीफ की है। गिली ने ट्वीट में लिखा, 'आप कितना हासिल करते हो ये मायने नहीं रखता लेकिन कब हासिल करते हो ये महत्वपूर्ण है। जब आप टीम की जरूरत के हिसाब से खुद को ढालते हैं तो आप सही मायने में मैच विजेता होते हैं। गिलक्रिस्ट के इस ट्वीट के जवाब में पंत ने उन्हें शु्क्रिया अदा किया। पंत ने ट्वीट कर कहा, 'आपकी तरफ से ये तारीफ बहुत मायने रखती है। सालों से आपको ही देखकर सब सीखा है।'

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.