गोरखपुराइट्स पर छाया सैक्सोफोन का जादू

2018-12-28T06:01:00Z

- भारत की पहली महिला सैक्सोफोनिस्ट हैं सुभालक्ष्मी, रोटरी क्लब के प्रोग्राम में स्पेशल परफॉर्मेस के लिए पहुंची थीं शहर

GORAKHPUR: महज छह साल की छोटी सी उम्र में सैक्सोफोन बजाने का शौक इतनी उपलब्धियां दिलाएगा, ये खुद देश की पहली महिला सैक्सोफोनिस्ट एमएस सुभालक्ष्मी ने भी नहीं सोचा था। पिता का सपोर्ट और पदमश्री पुरस्कार प्राप्त गुरु कादरी गोपीनाथ के आशीर्वाद से लिम्का बुक ऑफ रिकॉ‌र्ड्स में जगह बनाने वालीं सुभालक्ष्मी इंडियाज गॉट टैलेंट सीजन-1 की सेमीफाइनलिस्ट भी रह चुकी हैं। सिटी स्थित रोटरी क्लब के प्रोग्राम में शिरकत करने पहुंची सुभालक्ष्मी ने अपनी जादुई परफॉर्मेस से जो समां बांधा उसने ऑडियंस में मौजूद रहे हर शख्स को संगीत की सुरमयी दुनिया से रूबरू करा दिया।

रजनीकांत ने दिया था कॉम्प्लीमेंट

तमिल फिल्म इंडस्ट्री के बड़े प्रोजेक्ट्स का हिस्सा रह चुकीं सुभालक्ष्मी ने परफॉर्मेस के बाद दैनिक जागरण आई नेक्स्ट से अपने लाइफ एक्सपीरियंस भी शेयर किए। उन्होंने बताया कि उनकी उपलब्धियों का श्रेय उनके गुरु को जाता है। सुभालक्ष्मी ने एआर रहमान की फिल्म में भी परफॉर्म किया है। तमिल सुपरस्टार रजनीकांत भी सुभालक्ष्मी की परफॉर्मेस देख चकित रह गए थे। सुभालक्ष्मी ने बताया कि रजनीकांत द्वारा दिया कॉम्प्लीमेंट उनकी जिंदगी के सबसे यादगार पलों में एक है। वहीं, जावेद अख्तर, शबाना आजमी जैसे सेलेब्स भी उनका मार्गदर्शन करते रहते हैं। सुभालक्ष्मी के दादा मैसूर राजघराने के दरबारी संगीतज्ञ थे। उनके परिवार के दस सदस्य संगीतज्ञ के रूप में सेवा दे चुके हैं। 2011 में बंगलुरु की सुभालक्ष्मी का भारत की पहली महिला सैक्सोफोनिस्ट के रूप में लिम्का बुक ऑफ रिकॉ‌र्ड्स में नाम दर्ज किया गया था।

रोटरी क्लब के प्रोग्राम में किया परफॉर्म

नए साल के स्वागत के लिए गुरुवार को रोटरी क्लब द्वारा आर्गनाइज प्रोग्राम में सुभालक्ष्मी ने सैक्सोफोन से खूब धमाल मचाया। वंदे मातरम की धुन से जब प्रोग्राम की शुरुआत हुई तो दर्शक खुद क झूमने से नहीं रोक सके। अन्य धुनों पर सुभालक्ष्मी ने अपनी कलाकारी का लोहा मनवाया। इस मौके पर कपल डांस, जुम्बा डांस भी ऑर्गनाइज किए गए। इस दौरान राजीव रंजन अग्रवाल, अनुराग चांदवासिया, रीना अग्रवाल, रूपम गुप्ता, विजय प्रकाश, श्वेता दास, नितेन, प्रीती अग्रवाल, कीर्ति रमन दास, राजकुमार बथवाल, मधु जैन, गोपाल कृष्ण अग्रवाल सहित अन्य लोग मौजूद रहे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.