CJI गोगोर्इ ने बनाया नया रोस्टर जानें कब होगी तत्काल सुनवार्इ आैर कौन जज क्या सुनेगा

2018-10-04T12:13:45Z

सु्प्रीम कोर्ट के नए चीफ जस्टिस रंजन गोगोर्इ ने शपथ ग्रहण के बाद कुछ नए नियम बना दिए हैं। उन्होंने तत्काल सुनवार्इ से लेकर कौन जज करेगा किन मामलों की सुनवार्इ के लिए एक रोस्टर जारी किया है। यहां जानें इन नए नियमों के बारे में

नई दिल्ली (आईएएनएस)। जस्टिस रंजन गोगोर्इ ने कल सु्प्रीम कोर्ट के नए चीफ जस्टिस (प्रधान न्यायाधीश) के रूप में शपथ ग्रहण की। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के रिटायर होने के बाद गोगोर्इ देश के 46वें प्रधान न्यायाधीश बने हैं। चीफ जस्टिस के रूप में रंजन गोगोर्इ 13 महीने 15 दिन तक  कार्यभार संभालेंगे। खास बात यह है कि शपथ ग्रहण के बाद कल ही चीफ जस्टिस रंजन गोगोर्इ ने सुप्रीम कोर्ट जनहित याचिकाओं (पीआईएल) के मामलों के लिए नया रोस्टर जारी किया है।
सीजेआर्इ द्वारा सौंपी गर्इ पीआईएल सुनेंगे
नए रोस्टर के मुताबिक जनहित याचिकाओं वाले मामलों पर सुनवाई सीजेआर्इ रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ व सुप्रीम कोर्ट के दूसरे सबसे सीनियर जज मदन बी. लोकुर की पीठ करेगी। इसके अलावा सीजेआर्इ रंजन गोगोर्इ की अध्यक्षता वाली पीठ में सामाजिक न्याय, चुनाव, अदालत की अवमानना, बंदी प्रत्यक्षीकरण, संवैधानिक पदाधिकारी की नियुक्ति समेत अन्य मामलों पर भी सुनवार्इ की जाएगी। जज मदन बी. लोकुर की अगुवाई वाली पीठ सीजेआर्इ द्वारा सौंपी गर्इ पीआईएल सुनेंगे।

पीआईएल पर सुनवार्इ सीजेआर्इ की पीठ में

पर्सनल लॉ मामलों पर पांच अलग-अलग जजों की पीठें सुनवार्इ करेगी। इसमें जस्टिस लोकुर,  जस्टिस एके सीकरी, जस्टिस कुरियन जोसेफ, जस्टिस एनवी रमन्ना और जस्टिस यू. यू. ललित की अध्यक्षता वाली पीठें शामिल होंगी। इनके अलावा अब कोई भी मामला किसी भी पीठ को सुनवार्इ के लिए दिया जा सकता है। बता दें कि पूर्व सीजेआर्इ दीपक मिश्रा ने फरवरी में नई रोस्टर प्रणाली पेश की थी। इसमें उन्होंने कहा था कि पीआईएल पर केवल उनकी अगुवाई वाली पीठ में ही सुनवार्इ होगी।
इन दो मामलों में की जाएगी तत्काल सुनवार्इ
इतना ही नहीं चीफ जस्टिस आॅफ इंडिया का पद संभालने के बाद रंजन गोगोई ने केसों की तत्काल सुनवाई को लेकर नियम बना दिए। उन्होंने कहा कि हर तरह के मामलों में तत्काल सुनवार्इ नहीं की जा सकेगी। तत्काल सुनवार्इ तब होगी जब कोर्इ कल फांसी पर चढ़ने वाला है या फिर तब होगी जब किसी को उसके घर से बेदखल कर दिया गया हो। बता दें कि 18 नवंबर, 1954 को जन्में गोगोर्इ ने 24 साल की उम्र में कानूनी सफर शुरू किया था। वह 1978 में वकील के रूप में रजिस्टर्ड हुए थे।

रंजन गोगोर्इ बने देश 46वें चीफ जस्टिस, 24 की उम्र में शुरू किया था कानून का सफर

सुप्रीम कोर्ट का आदेश, अब पूर्व मुख्यमंत्रियों को खाली करने पड़ेंगे सरकारी बंगले

Posted By: Shweta Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.