न्यूजीलैंड में 800 साल पुराने लोगों से मिली टीम इंडिया इनका रहनसहन देख हो जाएंगे हैरान

2019-01-25T12:21:04Z

नेपियर में पहला वनडे जीतने के बाद टीम इंडिया दूसरे मैच के लिए माउंटगनर्इ पहुंच गर्इ है। यहां भारतीय टीम का अलग तरह से स्वागत किया गया। विराट सेना के वेलकम के लिए यहां 800 साल पुराने लोग आए। आइए जानें कौन हैं ये लोग आैर कहां से आते हैं

कानपुर। भारत बनाम न्यूजीलैंड के बीच पांच मैचों की वनडे सीरीज का दूसरा मैच टौरंगा के माउंटगनर्इ में खेला जाएगा। टीम इंडिया यहां बुधवार को ही पहुंच गर्इ। विराट सेना का इस बार काफी अलग तरह से स्वागत किया। भारतीय खिलाड़ियों के वेलकम के लिए न्यूजीलैंड के 800 साल पुरानी संस्कृति के लोग आए, जिन्हें इन्हें माआेरी कहा जाता है। न्यूजीलैंड में माआेरी समूह के लोगों की संख्या लाखों में है। इनका रहन-सहन काफी अलग है। इन्हें देखकर आपको किसी आदिवासी समूह की याद आ जाएगी मगर माआेरी को इस श्रेणी में नहीं रखा जाता।
कहां से आए थे ये लोग
न्यूजीलैंड के माआेरी समूह के लोगों को पाॅलनेशियन भी कहा जाता है। न्यूजीलैंड की एक वेसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, ये लोग प्रशांत महासागर पर बने पाॅलीनेशिया आर्इलैंड पर रहते थे मगर 13वीं सदी में ये पलायन करके न्यूजीलैंड में आकर बस गए। हालांकि आॅस्ट्रेलिया, कनाडा आैर यूके में भी माआेरी समूह के लोग मिल जाते हैं। माआेरी सभ्यता को दुनिया की सबसे नवीन सभ्यता भी माना जाता है।
नहीं लिखी जा सकती इनकी भाषा
माआेरी सभ्यता के लोग शुरुआत में इशारों में बात करते थे। मगर बाद में इन्होंने अपनी एक भाषा की खोज की जिसे Te Reo कहा जाता है। बता दें ये भाषा सिर्फ बोली जाती है, इसे लिख नहीं सकते।

#TeamIndia received a traditional welcome at the Oval Bay from the Maori community.
Full video coming up soon on https://t.co/CPALMGgLOj pic.twitter.com/FEbSuwHEZ8

— BCCI (@BCCI) 25 January 2019

मिलने पर हाथ नहीं नाक मिलाते हैं
माआेरी समुदाय के लोग आपस में मिलने पर हाथ या गले नहीं मिलते हैं। इनका ग्रीटिंग का एक अलग तरीका है जिसे होंगी कहते हैं। इसमें जो भी व्यक्ति मिलते हैं वे आपस में अपनी नाक आैर माथे को एक-दूसरे के साथ मिलाते हैं। इस दौरान दोनों व्यक्तियों को 'ha' बोलना होता है।
जमीन के नीचे पकाते हैं खाना
माआेरी समूह के लोग आम इंसानों की तरह किचन में खाना नहीं पकाते। ये लोग नैचुरल भट्टी बनाते हैं। इसके लिए इन्हें जमीन पर एक गड्ढा खोदना होता है उसके बाद नीचे गरम पत्थर रखे जाते हैं जिसकी आंच में खाना पकाया जाता है। इस प्रक्रिया को हैंगी कहा जाता है।
टैटू से होती है इनकी पहचान
माआेरी समुदाय के लोगों का सोशल स्टेटस आैर फैमिली बैकग्राउंड जाने के लिए उनके शरीर पर बने टैटू को ध्यान से देखना होता है। दरअसल यहां लोगों में भिन्नताएं उनके अलग-अलग टैटू होते हैं।

न्यूजीलैंड में एक नर्इ गाड़ी से घूम रहे धोनी आैर कोहली, सड़क पर देखने को नहीं मिलती ये कभी

चलते मैच में गिरी बर्फ तो दौड़ आर्इ कार, Ind vs Nz ही नहीं ये 10 मैच भी रोके गए अनोखी वजहों से

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.