ठंड से बचाव के लिए फूंक डाला कपड़ा

2019-02-06T06:00:30Z

-ठंड से इंडोनेशियन पर्यटक की हालत खराब

-कपड़ा और नोट तक कर दिया आग के हवाले

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: यही कोई पांच सवा पांच बजे का वक्त था। संगम पर एक तरफ भीड़ लगी हुई थी। नजारा देख किसी दुर्घटना की आशंका हो रही थी। भीड़ को चीर जब पास पहुंचा तो कंपकंपाते हाथ में चाय की गिलास लिए एक विदेशी का चेहरा सामने था। बदन पर बस एक राम नाम की तौलिया थी जिससे पूरा शरीर कांप रहा था। कोई खाने का सामान दे रहा था तो कोई पैसा देकर मदद कर रहा था। श्रद्धालुओं की मानवीयता तो दिख रही थी लेकिन मेला प्रशासन का कोई भी जिम्मेदार मौके पर नहीं था। दैनिक जागरण-आई नेक्स्ट रिपोर्टर के साथ कुछ अन्य लोगों के सहयोग से उसे एम्बुलेंस से अस्पताल भेजा गया।

अचानक बिगड़ी हालत

मौके पर मौजूद लोगों ने बताया मंगलवार सुबह विदेशी पर्यटक संगम जाने के अपर मार्ग पर आया और तेजी से कांप रहा था। रास्ते में ही कुछ लोग आग सेंक रहे। पर्यटक वहां पहुंचा और कपड़ा उतारकर आग के हवाले कर दिया। कपड़ा ही नहीं रुपया-पैसा भी आग में डाल दिया और बैठकर सेंकने लगा। इतने में वहां लोगों की भीड़ लग गई। श्रद्धालुओं ने उसकी बिगड़ती हालत देख उसे चाय पिलाई और खाने का सामान दिया। बातचीत में विदेशी पर्यटक ने खुद को इंडोनेशिया का निवासी बताया। हालांकि वह अपना नाम नहीं बता पा रहा था। श्रद्धालुओं ने बताया कि वह सूचना देकर एक घंटे से अधिक समय तक इंतजार किए लेकिन कोई नहीं आया।

पंजाब के युवक ने कई बार किया फोन

इंडोनेशियन टूरिस्ट की खराब हालत देख वहां मौजूद लोग बार बार फोन कर रहे थे। लेकिन न तो एम्बुलेंस आई और न ही कोई जिम्मेदार अफसर पहुंचा। पंजाब से आए गुरमीत ने भी काफी प्रयास किया था लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। दैनिक जागरण-आई नेक्स्ट रिपोर्टर के साथ आस-पास के लोगों ने एक सिपाही को बुलाया और उससे रिक्वेस्ट की। इसके बाद कांस्टेबल ने भी काफी प्रयास किया तब जाकर एम्बुलेंस आई। आस-पास के लोगों की मदद से उसे एम्बुलेंस में बैठाकर हॉस्पिटल भेजा गया। संगम तट के पास के स्वास्थ्य केंद्र से उसे रेफर कर दिया गया है।

ठंड में होती है ऐसी प्रॉब्लम

डॉक्टरों का कहना है कि ठंड के कारण कभी-कभी इस तरह की दिक्कत आ जाती है। सोडियम की कमी होने से इंसान मानसिक रूप से परेशान हो जाता है और ऐसी हरकत करता है। यहां तक की नाम भूलने लगता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.