लौट आई 'लक्ष्मी', खुलकर मनाएंगे दिवाली

Updated Date: Sat, 14 Nov 2020 10:02 AM (IST)

i exclusive

सकुशल बरामद की गई गायब हुई बच्चियों के परिवार की है असली दिवाली

mukesh.chaturvedi@inext.co.in

PRAYAGRAJ: गायब होकर जिले के कई घरों में लक्ष्मी यानी बेटियां दोबारा वापस आ गई। वापस मिली इन बेटियों के परिजनों की आज असली दीवाली होगी। हालांकि इन परिवारों की गायब खुशियों की तलाश में पुलिस भगीरथ प्रयास करने पड़े। दिन रात की कड़ी मेहनत और भटकने के बाद यह सफलता मिली। नाउम्मीद हो चुके इन परिवारों में पुलिस ने उम्मीद की रोशनी फैला दी।

केस 1

लौट आयी जाह्नवी

मुट्ठीगंज के पंकज केसरवानी आज पूरे परिवार के साथ पर्व की खुशियां मनाएंगे। उनकी गायब पांच वर्षीय बेटी जाह्नवी जो मिल गई है। वह 12 अक्टूबर को पास की दुकान पर कुछ लेने गई थी। इसके बाद वह लौट कर घर नहीं पहुंची थी। खोजबीन के बाद जब नहीं मिलीं तो पूरे परिवार की आंखें सावन-भादों की तरफ बरसने लगीं। तहरीर मिलने के बाद गुमशुदगी दर्ज कर पुलिस हरकत में आ गई। काफी तलाश के बाद कुछ ही घंटों में पुलिस उसे मालवीय नगर से बरामद कर परिजनों को सौंप दिया था। बेटी के मिलते ही पूरे परिवार की खोई हुई खुशियां वापस लौट आई।

केस 2

वाराणसी से बरामद हुई नेहा

परेड ग्राउंड झुग्गी झोपड़ी में रहने वाला राजेंद्र चौधरी भी आज दिल खोलकर बेटी के साथ दीवाली की खुशियां मना सकेगा। दस जून को उसकी गायब हुई बेटी नेहा को वाराणसी से बरामद कर पुलिस परिवार को सौंप दी थी। उसकी तलाश में पुलिस को काफी पापड़ बेलने पड़े थे। राजेंद्र मध्य प्रदेश से आकर मेहनत मजदूरी कर परिवार पालता है। परिवार में उसकी पत्‍‌नी ऊषा, बेटी रानी (8) व नेहा (6) और बेटा रंजीत (3) है। तहरीर पर गुमशुदगी दर्ज कर पुलिस उसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर डाल दी थी। इसी के जरिए वाराणसी के किसी शख्स द्वारा उसके बारे में जानकारी दी गई थी।

केस 3

मोबाइल पर तस्वीर वायरल होने से मिली

फाफामऊ चालीस नंबर गोमती से गायब बच्चे लाल के घर भी गायब होकर लक्ष्मी यानी बेटी वापस आ गई। फरवरी महीने में उसकी चार साल की बेटी खेलते हुए भटक गई थी। आसपास व गांव में तलाशने के बाद जब वह नहीं मिली तो पुलिस को तहरीर दिया। पुलिस आसपास के गांवों के ग्राम प्रधान से संपर्क की। उसकी तस्वीर सभी के मोबाइल पर वायरल की गई। शाम के वक्त उसे फाफामऊ रेलवे फ्लाई ओवर के पास से एक दुकानदार द्वारा पाया गया। वह दुकानदार को परेशान हालत में रोड किनारे रोते हुए मिली थी। उसे बरामद कर थरवई पुलिस द्वारा परिजनों के हवाले किया गया।

बाक्स

सोशल मीडिया बनी ढाल

गायब होने के बाद इन बच्चियों की बरामदगी में पुलिस के लिए सोशल मीडिया ढाल का काम कर रहा है

गुमशुदगी दर्ज करने के बाद पुलिस ज्यादा तर बच्चों की तस्वीरें सोसल मीडिया पर वायरल कर दी

वायलर तस्वीरों को देखने के बाद तमाम लोगों द्वारा बरामद की गई बच्चियों के बारे में सूचना पुलिस को दी गई

बच्चियों के गायब होने के पीछे कई तरह के कारण अब तक पुलिस के सामने आए हैं इनमें नजरंदाजी बड़ी वजह है

थानों मिसिंग की तहरीर पर तत्काल रिपोर्ट दर्ज कर तलाश के निर्देश दिए गए हैं। बच्चों के गायब होने की मॉनीटरिंग स्वयं मेरे द्वारा भी समय-समय पर की जाती है। गुम हुए कई बच्चों को अब तक बरामद किया जा चुका है। शेष की तलाश को लेकर प्रयास किए जा रहे हैं।

सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी

डीआईजी/एसएसपी

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.