allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: कम्बाइंड लोअर सबआर्डिनेट के रिजल्ट में तीसरा स्थान पाने वाले अंजनेय मिश्रा का घर जेरा ग्राम मेजा में भी है. अंजनेय की कहानी भी कम दिलचस्प नहीं है. दरअसल, अंजनेय लगातार तीसरी बार कम्बाइंड लोअर सबआर्डिनेट के रिजल्ट में चयनित हुये हैं. इससे पहले उन्हें लोअर 2013 में मत्स्य निरीक्षक का पद हासिल हुआ था. इस पद पर वे मत्स्य विभाग मिर्जापुर में कार्यरत हैं. इसके अलावा उन्हें लोअर 2014 के रिजल्ट में सहायक मलेरिया अधिकारी के पद पर सफलता हासिल हुयी थी. लेकिन उन्होंने इसे ज्वाईन नहीं किया था.

सिविल के मेंस तक भी पहुंचे थे

अंजनेय ने बताया कि वे चार बार पीसीएस का इंटरव्यू दे चुके हैं. उन्हें पीसीएस मेंस 2017 का एग्जाम देना है. बताया कि उन्होंने सिविल सर्विसेस एग्जाम भी दिया. इसके मेंस तक भी पहुंचे. लेकिन चयन नहीं हुआ. बावजूद इसके उन्होंने हिम्मत नहीं हारी. अंजनेय की पत्नी प्रीति मिश्रा हाऊस वाइफ हैं. उनके दो बच्चे हैं. उनके पिता डॉ. पदमाकर ईसीसी के संस्कृत विभाग से सेवानिवृत्त हैं. उनके भाई डॉ. अरुणेय मिश्रा ईसीसी के संस्कृत विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं. दूसरे भाई अदितेय मिश्रा असिस्टेंट कमिश्नर हैं.

लोअर में हो गया, अब पीसीएस बनना है टार्गेट

परीक्षा परिणाम में चौथा स्थान हासिल करने वाले पवन कुमार द्विवेदी लखनऊ सचिवालय में समीक्षा अधिकारी के पद पर पोस्टेड हैं. इससे पहले उनका चयन मार्केटिंग इंस्पेक्टर के पद पर भी हुआ था. कानूनगो पर भी उनका चयन हो चुका है. पवन ने बताया कि उन्हें यूपीपीसीएस मेंस 2017 का भी एग्जाम देना है. इससे पहले वे पीसीएस बनने के लिए दो बार 2014 और 2015 का इंटरव्यू भी दे चुके हैं. गाजियाबाद से बीटेक करने वाले पवन ने अपनी सफलता का एकमात्र कारण हार्ड वर्किंग को बताया.