- सरधना में क्लर्क को लूटने में फंस गए लुटेरे

- एक बदमाश पकड़ा गया तो खुला सर्राफ का मर्डर

Meerut: कंकरखेड़ा एरिया में बस के अंदर सर्राफ को गोली मारकर लूटने वाले बदमाश सरधना में जाकर फंस गए. जहां इन बदमाशों ने सहकारी समिति के कैशियर को लूटा और एक पकड़ा गया. पब्लिक ने भागते हुए एक बदमाश को घेरकर पकड़ लिया, जिसके तीन अन्य साथी भागने में कामयाब हो गए. पकड़े गए शातिर बदमाश ने कई बड़ी वारदातों से पर्दा उठाया. साथ ही उसकी निशानदेही पर पुलिस ने लूटे गए रुपए और जेवरात भी बरामद किए.

सर्राफ के बाद सरधना में लूट

मोदीनगर के रहने वाले सर्राफ धीरज गोयल की पल्लवपुरम की चौहान मार्केट में सर्राफ की दुकान है. धीरज के साथ शुक्रवार की रात घर जाते समय बस में बदमाशों ने गोली मारकर लूट की थी. जिसमें धीरज की मौत हो गई थी. इसके बाद बदमाशों की तलाश में पुलिस जुटी हुई थी. अभी पुलिस इस मामले में कुछ नहीं कर पाई थी कि कंकरखेड़ा पुलिस का नसीब जाग गया. सरधना में शनिवार को सहकारी समिति के कैशियर से लूट की वारदात हुई थी. जिसमें पकड़े गए बदमाश का लिंक कंकरखेड़ा में सर्राफ से हुई लूट से जुड़ गया.

सरधना की वारदात

शनिवार की सुबह खेड़ा स्थित किसान सेवा समिति के एमडी उमा प्रताप ने समिति के कैशियर भामौरी के राज सिंह पुत्र कुंवरपाल और क्लर्क कुशलपाल पुत्र खचेडू को साढ़े पांच लाख रुपए लेकर बाइक से सलावा बैंक में जमा कराने भेजा था. दोनों से ज्वालागढ़ के पास दो बाइकों पर सवार चार बदमाशों ने टक्कर मारकर गिरा दिया था. साथ ही बदमाशों ने क्लर्क कुशलपाल को तमंचे की बट मारकर रुपयों का बैग लूट लिया था. बैग लूटते ही बदमाश मौके से भाग निकले.

पुलिस से तेज निकले ग्रामीण

बदमाशों के जाते ही दोनों ने शोर मचा दिया. आसपास खेतों पर काम कर रहे लोगों शोर सुनकर पहुंच गए. जहां इन लोगों ने पुलिस को फोन पर सूचना दी. साथ ही ग्रामीणों ने आसपास के गांवों में भी लूट की वारदात बता दिया. कुशावली गांव में ग्रामीणों ने बाइक से भाग रहे बदमाशों को घेर लिया था. बदमाशों ने खुद को घिरा देखा तो बाइक से कूदकर भाग निकले. जिनमें एक बदमाश को पकड़ लिया, लेकिन तीन भागने में कामयाब हो गए. पुलिस अभी पहुंची भी नहीं थी कि बदमाश की जमकर धुनाई की. इसके बाद पुलिस को सौंप दिया.

खोले राज

पकड़े गए बदमाश के पास से पुलिस ने पूरा पैसा भी बरामद कर लिया. साथ ही एक पिस्टल भी मिली. बाकी बदमाशों को पकड़ने के लिए पुलिस खेतों में कांबिंग की, लेकिन कोई हाथ नहीं आया. एसएसपी ने पकड़े गए इस बदमाश से पूछताछ की तो इसने अपना नाम सुमित उर्फ ठाकुर पुत्र राकेश राणा निवासी धौलाना हापुड़ बताया. इस बदमाश ने अपने दो साथियों के नाम बताए. जिनमें एक पिलखुआ का हेमंत और दूसरा खैरपुर का राहुल है, लेकिन तीसरे का नाम वह नहीं जानता था. पकड़े गए इस बदमाश ने पुलिस के सामने कई घटनाओं का खुलासा किया.

खोली वारदातें

सुमित के घर से पुलिस ने उसकी निशानदेही पर ख्ख् मार्च को बुलंदशहर के सर्राफ रमेश चंद वर्मा के साथ लूट का माल लगभग आधा मिलो चांदी और पचास ग्राम सोने के जेवरात बरामद कर लिए. लूट के दौरान प्रयोग की गई बाइक गाजियाबाद से लूटी गई थी. इसके साथ ही सुमित ने कई वारदातों से पर्दा उठाया. इनमें इंचौली में पेट्रोल पंप पर हुई लूट और कंकरखेड़ा में सर्राफ से लूट की वारदात कबूली. जिसमें सुमित ने भोजपुर, दिल्ली में भी लूट की कई वारदातें करना कबूल किया. पुलिस ने सुमित को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया. अभी इसके तीन अन्य साथियों की तलाश बाकी है. जिनके क्रिमिनल रिकार्ड खासे अच्छे हैं.

वर्जन

इन लोगों को सर्राफ से लूट के दौरान कुछ नहीं मिला था. इस कारण इन बदमाशों ने सरधना में लूट की वारदात को अंजाम दिया था. इनमें से एक पकड़ा गया तो लूट का राज खुल गया. जिस दिन बस में लूट हुई थी उस दिन एक ही बदमाश सवारी कर रहा था. बाकी बदमाश पीछे कार से आ रहे थे. लूट करते ही बस से उतरकर कार में बैठकर निकल गए थे.

- महावीर सिंह, एसओ कंकरखेड़ा