डीएम व एसएसपी ने फोर्स के साथ केंद्रीय कारागार का किया निरीक्षण

आपत्तिजनक वस्तुएं मिलने पर जेल अधीक्षक को लगी फटकार

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: केंद्रीय कारागार नैनी का मंगलवार को निरीक्षण करने पहुंचे डीएम व एसएसपी को कई खामियां मिलीं. लगभग तीन घंटे तक छापेमारी के दौरान कैदियों के बैरक से चाकू, लाइटर, सिगरेट, पान गुटखा, म्यूजिक सिस्टम सहित कई आपत्तिजनक वस्तुएं बरामद हुई. हद तो तब हो गयी जब जेल में लगे जैमर बंद मिले. इस पर डीएम ने जेल अधीक्षक को कड़ी फटकार लगाई. पूर्व विधायक उदयभान करवरिया अपने बैरक में म्युजिक सिस्टम पर भजन सुनते मिले.

भोर में पड़ा छापा

जिला प्रशासन और पुलिस विभाग के अधिकारियों की टीम भोर में नैनी सेन्ट्रल जेल पहुंची. लगभग चार घंटों तक जेल का औचक निरीक्षण किया. बता दें कि निरीक्षण पूर्व एसएसपी शलभ माथुर ने माघ मेला पंडाल में एक मीटिंग कर टीमों को गठन किया. जेल पहुंचते ही पुलिस टीम ने पांच सर्किल व बैरकों की गहन तलाशी शुरू की. जेल की तलाश और बैरकों की छानबीन के बाद डीएम संजय कुमार ने जैमर की जांच पड़ताल की तो वह पड़ा मिला. इस पर डीएम ने जेल अधीक्षक पर जमकर बरसे और उन्होंने इसकी रिपोर्ट प्रमुख सचिव भेजने की बात कहीं. हालांकि इस दौरान जेल अधीक्षक केदार नाथ ने अधिकारियों को सफाई देना चाहा जिस पर अधिकारी उन पर भड़क गए. इस दौरान अधिकारियों के अलावा एडीएम सिटी, क्राइम ब्रांच, सीओ करछना, एसडीएम फूलपुर, सहित कई थानों की फोर्स साथ थी.

अंदर से कर रहे चुनाव प्रचार

जेल सूत्रों की माने तो पूर्व विधायक उदय भान करवरिया की बैरक में मोबाइल इस्तेमाल करने की सूचना जिला प्रशासन और पुलिस विभाग को मिली थी. अधिकारियो को पता चला कि पूर्व विधायक जेल के अंदर रहते हुए मोबाइल के जरिए लोगों से सम्पर्क कुछ दिनों से चुनाव की रणनीति अपने कुछ खास लोगों से साझा कर रहे थे. इसे गंभीरता से लेते हुए अधिकारियों ने जेल में छापेमारी की. तलाशी के दौरान भोर में जब अधिकारी विधायक की बैरक पहुंचे, तो देखा कि वहां म्यूजिक सिस्टम लगा हुआ था जिस पर वह भजन सुन रहे थे.

लग जाती है भनक

पुलिस सूत्रों की माने तो जेल में बंद माफिया जेल के कर्मचारियों को सेट किए रहते हैं. उन्हें हर महीने एक मोटी रकम दी जाती है. जिसके बाद वे खुद मोबाइल फोन, सिमकार्ड का इंतजाम कराते हैं. यहीं नहीं मोबाइल रिचार्ज करने की जिम्मेदारी भी जेल कर्मचारियों को होती है. जेल के अंदर वे कुछ विशेष जगहों पर जमीन के अंदर रखते हैं. ऐसे में बाहर से कोई टीम चेकिंग को आती है तो इसकी सूचना पहले ही बदमाशों को दे दी जाती है.

जेल में लगे हैं 19 जैमर

नैनी जेल में 24 जैमर लगने हैं, लेकिन फिलहाल 19 जैमर ही लगे हैं. मंगलवार को निरीक्षण के दौरान सभी 19 जैमर बंद मिले. जबकि चुनाव को देखते हुए इन्हें हर समय ऑन रखने का निर्देश दिया गया था. एसएसपी ने अपने फोन के जरिए काल और मैसेज किया तो मोबाइल काम करता मिला.